Home > धर्म > इन चीजों के जलाने मात्र से वास्तुदोष हो जाता है जड़ से खत्म

इन चीजों के जलाने मात्र से वास्तुदोष हो जाता है जड़ से खत्म

घर में फैले वास्तुदोष को दूर करने के लिए वैसे तो कई उपाय मौजूद हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हम अपनी क्षमता के बाहर इन उपायों को अपनाएं बल्कि वास्तुशास्त्र मे बहुत से ऐसे सरल उपाय भी दर्शाये गये हैं, जो मानव जीवन व उसके घर से समस्त वास्तुदोषों को जड़ से खत्म करते हैं। आज हम आपसे कुछ ऐसे ही सरल उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हे करने के बाद आपका घर वास्तुदोष से मुक्त हो जाएगा। दरअसल हम बात कर रहे हैं, कुछ ऐसी चीजों के बारे में जिन्हे जलाने मात्र से आपको फायदा होगा। और साथ ही सकारात्मक ऊर्जा का संचार भी होगा। तो चलिए जानते हैं, वह चीजें कौन सी हैं, जिन्हे जलाने मात्र से वास्तुदोष खत्म हो जाता है।इन चीजों के जलाने मात्र से वास्तुदोष हो जाता है जड़ से खत्म

हफ्ते में 1 बार किसी भी दिन घर में कंडे जलाकर गुग्गल की धूनी देने से गृहकलह शांत होता है। गुग्गल सुगंधित होने के साथ ही दिमाग के रोगों के लिए भी लाभदायक है।

रोज़ाना सुबह और शाम घर में कर्पूर और लौंग जरूर जलाएं। आरती या प्रार्थना के बाद कर्पूर जलाकर उसकी आरती लेनी चाहिए। इससे घर के वास्तुदोष ख़त्म होते हैं। साथ ही पैसों की कमी नहीं होती।

पीली सरसों, गुग्गल, लोबान, गौघृत को मिलाकर सूर्यास्तक के समय उपले (कंडे) जलाकर ये सारी सामग्री डाल दें। नकारात्मकता दूर हो जाएगी।
घर में सप्ताह में एक या दो बार नीम के पते की धूनी जलाएं। इससे जहां एक और सभी तरह के जीवाणु नष्ट हो जाएंगे। वहीं वास्तु दोष भी समाप्त  हो जाएगा।

यदि सीढि़यां, टॉयलेट या द्वार किसी गलत दिशा में निर्मित हो गए है, तो सभी जगह 1-1 कपूर की बट्टी रख दें। वहां रखा कपूर चमत्कारिक रूप से वास्तुदोष को दूर कर देगा।

घर में पैसा नहीं टिकता हो, तो रोजाना महाकाली के आगे एक धूपबत्ती लगाएं। हर शुक्रवार को काली के मंदिर में जाकर पूजा करें।

 

Loading...

Check Also

अगर सपने में दिख जाए सांप तो समझ लीजिए भविष्य के यह संकेत

दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जो सपनो में भगवान को देखते हैं लेकिन कई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com