बहुत ही किस्मत वाला होता है वो इंसान जिसकी हथेली पर होता है ये निशान! अगर आपके भी है यह निशान तो जरुर पढ़ ले यह खबर!

- in धर्म

मित्रों इस दुनिया में हर एक इंसान धनवान बनने की होड़ में लगा रहता है, इसके लिये बहुत सारा परिश्रम भी कर ता है, पर कभी कभी अधिक परिश्रम करने के पश्‍चात भी उसको कोई विशेष लाभ नही हो पाता है, आज हम कुछ ऐसे संकेतों से आपको अवगत कराने वाले है, जिनका हमारे जीवन में बहुत बड़ा महत्‍व होता है।

दरअसल हस्तरेखा में मंगल पर्वत के दो स्थान दिए गए है अत: माना जा सकता है कि मंगल कितने शक्तिशाली  और मुख्य पवर्त है मंगल पर्वत को हथेली में दो स्थानों पर माना जाता है-एक उच्च का पर्वत होता है और दूसरा नीचे  का होता है उच्च मंगल पर्वत रेखा जहा से शुरु होती है उसके उपर स्थित होता है जबकि नीचे   का मंगल जहा से जीवन रेखा शुरू होती है,

आपको बता दे कि मंगल पर्वत का होने पर इंसान आक्रामकता एव साहस को बढ़ावा देता है क्योकि वह सेनापति है तथा सफलता प्राप्त करने के लिए बार -बार प्रयास करते रहे मंगल पर्वत का विकसित होना जीवन में अच्छे ऊर्जा तथा सफलता का कारक माना जाता है मंगल पर्वत का स्थान सपाट होता है वह कायर और डरपोक होता है वही रेखा ऊपर   के मंगल का  बुध कि और झुका होना अच्चा स्वास्थ और समझ को बताता है या समाज से निष्कासित होने को देखती है।

आपकी जानकारी के लिये बता दे कि वह व्यक्ति जिसकी हथेली के सूर्य पर्वत पर त्रिकोण का निशान होता है ऐसा व्यक्ति धार्मिक परोपकारी व दूसरे की मदद करने वाला होता है, जिस व्यक्ति के बुध पर्वत पर त्रिकोण का निशान होता है वह एक सफल वैज्ञानिक या देश विदेश का व्यापारी बनता है, मंगल पर्वत को विकसित करने तथा ऊर्जा ,उत्साह तथा साकारात्म्कता बढ़ाने हेतु अनामिका जिस पर मंगल से संबधित रत्न मूगा पहना चाहिए, इसके अतिरिक्‍त मंगल पर्वत के लिए निम्न उपाय करने अति आवश्‍यक है।

1100 साल बाद इन 4 राशि वालों की चमकने वाली है किस्मत

उपाए :

*  सिद्धसन ,पदमासन या सुखासन में बेठ जाए,

* दोनों हाथ धुटनो पर रख ले हथेलिया ऊपर  की तरफ रहे,

*अनामिकाअगुली रिंग फिंगर को मोड़ कर अंगूठे कि जड़ में लगा ले एवं ऊपर  से अंगूठे से दबा लें,

*बाकी की तीन अंगुली सीधी रखें, अनामिका अंगुली जमीन एंव अंगूठा अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है, इन तुरंत उर्जा उत्पन्न हो जाती है।।

 

You may also like

एक बार महादेवजी धरती पर आये, फिर जो हुआ उसे सुनकर नहीं होगा यकीन…

एक बार महादेवजी धरती पर आये । चलते