वीसी करते हैं यौनशोषण, हिल स्टेशन पर चलने का भी दिया था ऑफर: जीएनडीयू महिला प्रोफेसर

- in पंजाब, राज्य

अमृतसर। गुरु नानक देव विश्वविद्यालय (जीएनडीयू) के वीसी डॉ. जसपाल सिंह संधू पर विश्वविद्यालय की ही एक महिला प्रोफेसर ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। शिकायत पर पंजाब सरकार ने अमृतसर के पुलिस कमिश्नर एसएस श्रीवास्तव को जांच के आदेश दिए हैं। पुलिस ने महिला प्रोफेसर के बयान दर्ज कर लिए हैं। वीसी करते हैं यौनशोषण, हिल स्टेशन पर चलने का भी दिया था ऑफर: जीएनडीयू महिला प्रोफेसर

महिला प्रोफेसर ने पहले विश्वविद्यालय के तत्कालीन डीन (अकादमिक) को शिकायत दी थी, लेकिन कोई कार्रवाई न होने पर उन्होंने विश्वविद्यालय की सेक्सुअल ह्रासमेंट कमेटी को शिकायत दी। कमेटी की तत्कालीन प्रभारी ने शिकायत लेने से इन्कार कर दिया, तो पीडि़ता ने इसकी शिकायत पंजाब के राज्यपाल व विश्वविद्यालय के चांसलर समेत मुख्यमंत्री पंजाब, डीजीपी पंजाब और राष्ट्रीय व पंजाब महिला आयोग को भेज दी। मुख्यमंत्री कार्यालय ने 19 फरवरी, 2018 को उच्च शिक्षा मंत्रालय को पत्र जारी कर इस मामले की जांच के आदेश दिए। इसमें कहा गया है कि जांच रिपोर्ट जल्द मुख्यमंत्री कार्यालय को सौंपी जाए।

क्या है शिकायत में

महिला प्रोफेसर ने अपनी शिकायत में स्पष्ट जिक्र किया है कि वीसी उसके साथ किस-किस तरह की बातें करते रहे हैं। जब वह अलग-अलग बैठकों में जाती थी, तो अश्लील कमेंट्स किए जाते थे। एक बार तो सारी हद पर करते हुए हिल स्टेशन पर चलने का भी ऑफर दिया गया। इसके बाद विश्वविद्यालय के एक अधिकारी के साथ मिलकर उसके खिलाफ झूठी शिकायतें करवाई गईं।

शिकायतों में कोई तथ्य नहीं पाए गए, तो उस पर कैंपस में हड़ताल करवाने के झूठे आरोप लगा कर विभाग के प्रमुख के पद से हटा दिया गया। उसे डीन फैकल्टी, सीनेट, सिंडिकेट, विजुअल आर्ट आदि के पदों से भी हटा दिया गया। अब उसे और परेशान किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि अगर वह उनके अनुसार चलती तो कभी मुश्किल में नहीं आ सकती थी।

शिकायत की जांच शुरू : पुलिस कमिश्नर

अमृतसर पुलिस के कमिश्नर एसएस श्रीवास्तव ने कहा कि पंजाब सरकार की ओर से उनके पास शिकायत पहुंच गई है। शिकायत डीजीपी कार्यालय से आई है। सीपी कार्यालय की ओर से जांच शुरू कर दी गई है। इसके लिए एक वरिष्ठ महिला पुलिस अधिकारी को जांच के लिए तैनात कर दिया गया है।

मुझे शिकायत की जानकारी नहीं: डॉ. संधू

गुरु नानक देव विश्वविद्यालय के वीसी डॉ. जसपाल सिंह संधू ने कहा कि किसी प्राध्यापिका ने उसके खिलाफ कोई शिकायत भेजी है, इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं है। अभी तक पुलिस ने भी संपर्क नहीं किया है।

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के