टकीला शॉट्स से कम होता हैं वजन, पाचन बेहतर करने जैसे ये 7 बड़े फायदे

- in हेल्थ

जब भी कोई व्यक्ति ड्रिंक करता है तो कोई न कोई उसको ड्रिंक से होने वाले नुकसान के बारे में बता देता है। लेकिन ये बात काफी हद तक सही भी है।

टकीला शॉट्स से कम होता हैं वजन, पाचन बेहतर करने जैसे ये 7 बड़े फायदे

यूं तो ड्रिंक करने के कई नुकसान होते हैं। ड्रिंक्स करने से आपको मोटापा, उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, पाचन समस्याएं, लीवर की बीमारियां हो सकती हैं। लेकिन सीमित मात्रा में एल्कोहल के कई फायदे भी हो सकते हैं। 

जी हां, ड्रिंक का सही मात्रा में सेवन करना काफी सही रहता है। और कुछ ड्रिंक ऐसे होते भी हैं जो कई तरह के रोग में काम करते हैं। उदहारण के लिए रेड वाइन को उम्र बढ़ने और दिल की बीमारियों को रोकने के लिए जाना जाता है, जबकि ब्रांडी को सर्दी-खांसी को कम करने के लिए जाना जाता है।

आपको बता दें कि रोजाना टकीला के दो शॉट पीने से ब्लड प्रेशर और शुगर दोनों कंट्रोल हो जाता है। हो सकता है आपको इस बात पर यकीन न आए पर रोज टकीला के दो शॉट पीने से आपको कई बीमारियों से निजात मिल सकती है। 

1) वजन घटाने में मदद मिलती है टकीला शॉट आपके चयापचय दर को बढ़ा सकता है, यह शरीर के फैट को तेजी से बर्न करने और प्रभावी रूप से वजन घटाने में मदद कर सकता है। 

2) पचाने में सुधार ऐसा कहा जाता है कि बहुत भारी भोजन के बाद, टकीला का एक शॉट लेने से स्वस्थ पाचन रस बढ़ता है और पाचन को बेहतर करने में मदद मिलती है। 

3) नैचुरल प्रोबायोटिक टकीला, दही की तरह स्वस्थ बैक्टीरिया के उत्पादन और विकास में मदद करता है, इस प्रकार यह एक नैचुरल प्रोबायोटिक के रूप में काम करता है। इससे आपके समग्र स्वास्थ्य में सुधार होता है। 

4) ऑस्टियोपोरोसिस का उपचार टकीला आपके शरीर को बेहतर तरीके से खाद्य पदार्थों में से कैल्शियम को अवशोषित करने की अनुमति देती है, इस प्रकार आपकी हड्डियों को मजबूत करने और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी स्थिति कम करने में सहायक है। 

5) टाइप 2 डायबिटीज को रोकता है टकीला को टाइप 2 डायबिटीज को रोकने के लिए सक्षम माना जाता है, क्योंकि यह इंसुलिन के उत्पादन को उत्तेजित करने के साथ शरीर में शुगर को बढ़ने से रोकता है। 

6) डिमेंशिया को रोकता है कम मात्रा में टकीला का सेवन करने से जीवन में बाद में डिमेंशिया विकसित होने की संभावना कम होती है। 

7) अवसाद कम करता है कुछ अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि टकीला ब्रेन में सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ा कर, अवसाद को कम करने में मदद कर सकता है। हालांकि, अवसाद से पीड़ित लोगों को किसी भी प्रकार के शराब लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। 

सम्बंधित समाचार

You may also like

सावधान: लगातार बैठने से इन बीमारियों को दे रहे है न्यौता

जब भी थक जाते है तो हम बैठने