UPCM ने गोरखपुर में ‘मेधावी प्रतिभा सम्मान’ समारोह को सम्बोधित किया

उत्तर प्रदेश (गोरखपुर)।
UPCM ने जनपद गोरखपुर के नेपाल क्लब में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा आयोजित मेधावी प्रतिभा सम्मान समारोह को सम्बोधित किया। उन्होंने हाईस्कूल, इण्टमीडिएट, स्नातक के 15-15 और परास्नातक के 37 मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र और स्मृति चिन्ह् प्रदान करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि 2500 मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया जाएगा।
UPCM मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र और स्मृति चिन्ह् प्रदान करते हुए
UPCM ने कहा कि युवाओं में अपार ऊर्जा एवं प्रतिभा होती है। आवश्यकता है कि उसे सकारात्मक दिशा में ले जाया जाए। राष्ट्र के निर्माण में युवाओं की ऊर्जा परिलक्षित हो, इसके लिए विद्यार्थी परिषद प्रयासरत रहती है। यह सम्मान समारोह बहुत ही महत्वपूर्ण है तथा युवा पीढ़ी को नई दिशा देने वाला है। युवा पीढ़ी में अपार सम्भावनाएं एवं क्षमता होती है, जिसे सही मार्ग पर ले जाने का कार्य परिषद द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने इस अच्छे कार्य के लिए परिषद को बधाई दी।
UPCM ने कहा कि शिक्षा को बढ़ावा देने और सभी को शिक्षित करने की दिशा में प्रदेश सरकार द्वारा अनेक कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हैं, ताकि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहने पाये और प्रदेश की साक्षरता शत्-प्रतिशत् हो। इस कार्य की सफलता में जन सहयोग आवश्यक है। समाज साक्षर, सुन्दर, सक्षम एवं स्वच्छ हो और शैक्षिक वातावरण पूरे परिवेश में दिखे इसके लिए सभी को आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के उद्देश्य से नकलविहीन परीक्षा सम्पन्न करायी गयी है, जिससे पठन पाठन का अच्छा माहौल बने। उन्होंने कहा कि परीक्षा केन्द्र पर नकल की शिकायत मिलने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। राज्य में नकलविहीन परीक्षा के अच्छे परिणाम आए हैं।
UPCM ने कहा कि कड़ी मेहनत करके अच्छे परिणाम लाने वाली प्रतिभाओं को आज सम्मानित कर गर्व का अनुभव हो रहा है। अगले वर्ष के परीक्षा परिणाम इससे भी बेहतर होंगे। उन्होंने कहा कि सभी बच्चे स्कूल जाएं, इस उद्देश्य से ‘स्कूल चलो अभियान’ 01 से 30 अप्रैल तक और 01 से 31 जुलाई, 2018 तक चलाया गया, जिसके अच्छे परिणाम आए हैं। शिक्षित बच्चे अपनी ऊर्जा और प्रतिभा से राष्ट्र के निर्माण में सहयोग प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों में भी काॅमन सिलेबस का प्रस्ताव किया जाएगा। परीक्षा केन्द्र को औपचारिकता के रूप में नहीं, बल्कि श्रद्धा के पवित्र केन्द्र के रूप में विकसित किया जाए।
UPCM मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र और स्मृति चिन्ह् प्रदान करते हुए
UPCM ने कहा कि स्वच्छता का संस्कार सभी के अन्दर होना चाहिए। आज स्वच्छ भारत मिशन जनसहभागिता के माध्यम से जन आन्दोलन बन चुका है। स्वच्छता अभियान केवल व्यक्ति के लिए नहीं, सम्पूर्ण सर्वांगीण विकास का मानक बनना चाहिए और इसमें सभी को आगे आना होगा। बेस लाइन सर्वे द्वारा चिन्हित एक करोड़ 47 लाख के सापेक्ष अब तक एक करोड़ 46 लाख शौचालयों का निर्माण कराया जा चुका है। 30 नवम्बर, 2018 तक बचे हुए परिवारों को शौचालय उपलब्ध करा दिए जाएंगे।
UPCM ने कहा कि गंदगी बीमारियों की जननी है, स्वच्छता अभियान के कारण इंसेफ्लाइटिस में गिरावट आयी है। उन्होंने वाॅर्ड वार समितियों का गठन कर स्वच्छता के प्रति अभियान चलाकर इसे शत-प्रतिशत सुनिश्चित करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि शासकीय योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाया जाय, समाज की पीड़ा के साथ अपने आप को जोड़ें, तभी स्वावलम्बी समाज की स्थापना की जा सकती है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डाॅ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय, फैजाबाद के पूर्व कुलपति प्रो। राम अचल सिंह ने कहा कि छात्र शक्ति, राष्ट्रशक्ति है। समाज और राष्ट्र के निर्माण में युवा वर्ग अपनी ऊर्जा और क्षमता का प्रयोग करे, हार से कभी निराश नहीं होना चाहिए, बल्कि बार बार प्रयास करना चाहिए, निश्चित रूप से सफलता मिलेगी। बच्चों की प्रतिभा, स्वाभिमान को जगाने की आवश्यकता है, स्वाभिमान कभी गिरने नहीं देता है और अभिमान बढ़ने नहीं देता है।
इस अवसर पर राजसरन शाही, उमा श्रीवास्तव, वैभव चतुर्वेदी, चन्द्र प्रकाश, प्रो। नरेन्द्र कुमार राय आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन हर्षवर्धन ने किया।
इससे पूर्व, UPCM ने दो प्राथमिक विद्यालयों मोहद्दीपुर रेलवे और गोरखनाथ कन्या नगर क्षेत्र का आकस्मिक निरीक्षण कर शिक्षा की गुणवत्ता, पठन पाठन का माहौल, फर्नीचर, काॅपी, किताब, यूनीफाॅर्म, बैग आदि की सीधी जानकारी प्राप्त की।
UPCM प्राथमिक विद्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण करते हुए
उन्होंने विद्यार्थियों से वार्ता कर पढ़ाई की गुणवत्ता को परखा और उन्हें मेहनत करने की सलाह दी। निरीक्षण के समय मण्डलायुक्त अमित गुप्ता, जिलाधिकारी के. विजयेन्द्र पाण्डियन आदि उपस्थित रहे।
UPCM प्राथमिक विद्यालयों के आकस्मिक निरीक्षण के दौरान बच्चों से बातचीत करते हुए

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button