बंगला बचाने के लिए सीएम आदित्यनाथ से मुलाकात करने पहुंचे मुलायम सिंह यादव

समाजवादी पार्टी संरक्षक और आजमगढ़ से सांसद मुलायम सिंह यादव ने अपना सरकारी बंगला बचाने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के पूर्व मुख्यमंत्रियों से उनका सरकारी बंगला खाली करने का आदेश दिया था, जिस सिलसिले में मुलायम सिंह यादव उनसे मिलने लखनऊ स्थित उनके सरकारी आवास पहुंचे। दोनों की मुलाकात करीब आधे घंटे तक चली।

सीएम योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात

अपने और बेटे अखिलेश यादव के सरकारी बंगले बचाने के लिए मुलायम सिंह यादव यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले। मुलाकात के दौरान उन्होंने बल दिया कि उनके और अखिलेश यादव के सरकारी बंगले नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी और नेता विधान परिषद अहमद हसन को दे दिए जाएं। बातचीत में ये बात भी सामने निकलकर आई कि कल्याण सिंह पर जो उनका बंगला है, वो मुलायम सिंह के पोते और राज्यमंत्री सदीप सिंह के नाम कर दिया जाए। हालांकि इस मुलाकात से क्या हल सामने निकलकर आया, इसकी जानकारी अभी नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था बंगला खाली करने का आदेश

बता दें कि कुछ वक्त पहले सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों से सरकारी बंगले को खाली करने का आदेश दिया था। ये फैसला केवल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के लिए था जिनमें मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, मायावती, राजनाथ सिंह, एनडी तिवारी और कल्याण सिंह का नाम शामिल है। उच्चतम न्यायालय ने आदेश किया था कि इन सभी से सरकारी बंगले जल्द से जल्द खाली कराए जाएं। इसके लिए राज्य संपत्ति विभाग ने तैयारी भी शुरू कर दी है।

सरकारी पैसों पर होता है इन घरों का रख-रखाव

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मुहर लगते ही ये चिट्ठी सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को भेज दी जाएंगी। पूर्व मुख्यमंत्रियों को दिए गए सरकारी बंगले काफी बड़े होते हैं और इनका रख-रखाव भी सरकारी पैसों पर ही होता है। इन बंगलों के लिए उन्हें मामूली सा किराया देना होता है, वहीं इनके रख-रखाव में लाखों रुपये खर्च होते हैं। मुलायम सिंह को लखनऊ में विक्रिमादित्य मार्ग पर साल 1992 में बंगला दिया गया था, जिसपर अभी तक उनका कब्जा है।

 
 
 
 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

नवजोत सिद्धू की पॉलिसी दरकिनार कर बाजवा लाएंगे ये नई पॉलिसी

लुधियाना। स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की