लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ. हुआ इसके उलट. हंगामा और हो गया और मैं अपने बंगाली माता-पिता को पंजाबी से शादी कराने के लिए मना रही थी! हम लोग तीन साल से डेट कर रहे थे, लेकिन हमारा अधिकतर समय दोनों परिवारों को साथ लाने में ही गुजरा. रिलेशनशिप के दौरान एक समय तो ऐसा लगा हम लोगों की जल्दी शादी हो जाएगी.

इसलिए उसने मुझे ‘प्रपोजल’ से सरप्राइज देने की कोशिश तक नहीं की. मुझे लगा कि मेरे पास कभी मेरा फ़िल्मी मोमेंट नहीं आएगा इसलिए मैंने खुद तय किया कि मैं उसे शादी के लिए प्रपोज करूंगी.