PM CARES Fund: सरकार क्यों नहीं बता रही पूरा डेटा?

जुबिली न्यूज डेस्क
पीएम केयर फंड के डेटा को लेकर शुरु से सवाल उठता रहा है। लोगों का आरोप है कि सरकार इसको लेकर पारदर्शिता नहीं बरत रही है। सवाल तो इसके गठन को लेकर ही उठा था कि जब पहले से प्रधानमंत्री केयर फंड है तो कोरोना के लिए नया बनाने की जरूरत क्या है।
सरकार ने पीएम केयर्स फंड का आंकड़ा इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दिया है। इस डाटा के मुताबिक पीएम केयर्स फंड के शुरुआती पांच दिन में ही 3000 करोड़ रुपए से ज्यादा का फंड इकट्ठा हो गया था। इसके बाद से सरकार ने कोई डाटा साझा नहीं किया है।
ये भी पढ़े : मेक्सिको के राष्ट्र्रपति भी रूस की वैक्सीन लगवाने को तैयार
ये भी पढ़े :  अमेरिकी डॉलर कमजोर होने से भारत सहित कई देशों को होगा ये फायदा
ये भी पढ़े :  सिर्फ 31 फीसदी प्रवासी मजदूरों को ही मिला मुफ्त अनाज

सरकारी आंकड़े के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2019-20 में पीएम केयर्स फंड के तहत कुल 3076.62 करोड़ रुपए जमा हुए हैं। इसमें से 39.68 लाख रुपए विदेशी मुद्रा में मिले हैं।
पीएम केयर फंड को लेकर मुख्य विपक्ष पार्टी कांग्रेस भी इसके गठन पर सवाल उठा चुकी है। कुछ दिनों पहले पीएम केयर्स फंड की जानकारी के लिए कई आरटीआई भी दाखिल की गई थीं लेकिन सरकार ने यह कहकर इस बारे में जानकारी देने से इंकार कर दिया था कि यह ‘पब्लिक अथॉरिटी नहीं’  है। आरटीआई दाखिल करने वाले आरटीआई कार्यकर्ता हर्ष कांदुकुरी ने पीएम केयर्स फंड की पारदर्शिता को लेकर चिंता जाहिर की थी।
मालूम हो कि 27 मार्च, 2020 को रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1908 के तहत पीएम केयर्स फंड का ‘पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट’  के तौर पर रजिस्ट्रेशन कराया गया था। इसके अध्यक्ष प्रधानमंत्री हैं। वहीं रक्षा मंत्री, गृह मंत्री, वित्त मंत्री इस फंड के ट्रस्टी हैं।
ये भी पढ़े :  अंधेरे में क्यों डूबा श्रीलंका का हर कोना?
ये भी पढ़े : हम खुद क्यों मूर्ति नहीं बन जाते

पीएम केयर्स फंड का मुख्यालय संसद भवन के साउथ ब्लॉक में स्थित पीएम ऑफिस है। पीएम केयर्स फंड की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, इसमें से 3100 करोड़ रुपए विभिन्न गतिविधियों के लिए आवंटित किए जा चुके हैं।
पीएम केयर्स फंड में से 2000 करोड़ रुपए मेड इन इंडिया कार्यक्रम के तहत सरकारी अस्पतालों के लिए वेंटिलेटर्स की सप्लाई में इस्तेमाल किए गए हैं। इनके अलावा 1000 करोड़ रुपए प्रवासी मजदूरों के लिए विभिन्न राज्य सरकारों और केन्द्र शासित प्रदेशों के लिए आवंटित किए जा चुके हैं। वहीं बाकी 100 करोड़ रुपए देश में कोरोना की वैक्सीन के डेवलेपमेंट में खर्च हुए हैं।
मालूम हो कि पीएम केयर्स फंड का ऑडिट एक स्वतंत्र ऑडिटर द्वारा किया जाएगा। पीएम केयर्स फंड के ट्रस्टियों की दूसरी बैठक में, जो कि दी गई जानकारी के अनुसार, 23 अप्रैल 2020 को आयोजित हुई थी, उसमें, , M/S SARC & Associates, Charted Accounts नई दिल्ली को अगले तीन सालों के लिए पीएम केयर्स फंड का ऑडिटर बनाया गया है। हर वित्तीय वर्ष के अंत में पीएम केयर्स फंड का ऑडिट किया जाएगा।
ये भी पढ़े : चीन ने कोरोनी की पहली वैक्सीन के पेटेंट को दी मंजूरी
ये भी पढ़े :  तमाम आपत्तियों के बीच रूस में बनी कोरोना वैक्सीन की पहली खेप 

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button