Home > अन्तर्राष्ट्रीय > सोमालिया: राष्ट्रपति भवन के पास दोहरे धमाके में 45 की मौत

सोमालिया: राष्ट्रपति भवन के पास दोहरे धमाके में 45 की मौत

सोमालिया की राजधानी मोगादीशू में हुए एक दोहरे बम धमाके में 45 लोगों की मौत हो गई जबकि 36 लोग घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि यह धमाका राष्ट्रपति भवन के नजदीक हुआ है। जानकारी के मुताबिक आतंकी संगठन अल-शहाब ने इसे हमले की जिम्मेदारी ली है।

हालांकि, मृतकों की संख्या को लेकर सरकारी अधिकारियों में विवाद है। मरने वालों में ज्यादातर राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मी हैं जबकि कुछ का मानना है कि अकेले होटल में ही कम से कम 21 लोगों की मौत हुई है। इस लिहाज से मृतक संख्या ज्यादा हो सकती है।

धमाके से होटल के बाहर खड़े पांच वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं। उधर, अल-शबाब के प्रवक्ता अब्दिसास अबू मुसाब ने बताया कि हमले में 35 सैनिकों की मारा गया है, जबकि संगठन के पांच लड़ाके शहीद हुए हैं। इनमें से दो ड्राइवर शामिल हैं। गौरतलब है कि अल-शबाब लंबे समय से सोमालिया सरकार को हटाने की कोशिश में है। ताकि वहां शरई कानून को लागू किया जा सके।

ट्रंप: चीन और भारत की वजह से पेरिस समझौते से पीछे हटा अमेरिका

मोगादीशू हमेशा से आतंकी संगठन अल-शहाब के निशाने पर रहता है। पिछले एक महीने से शांत मोगादीशू को मौका मिलते ही आतंकी संगठन ने फिर निशाना बनाया। सोमालिया के आंतरकि मंत्री ने एक दिन पहले ही राजधानी में विस्फोटक से भरे एक वाहन के देखे जाने की चेतावनी दी थी।

निशाने पर था राष्ट्रपति भवन

पुलिस कैप्टन मोहम्मद हुसैन ने बताया, पहला ब्लास्ट आत्मघाती कार बमबारी की वजह से हुआ जो कि सोमालिया के खुफिया मुख्यालय के पास हुआ। जबकि दूसरा धमाका संसद के मुख्यालय के पास हुआ। जहां तैनात सुरक्षाबलों ने बंदूकधारियों को रोकने की कोशिश की। जिनका मकसद राष्ट्रपति भवन पर हमला करना था। हुसैन ने बताया, बंदूकधारियों ने संसद मुख्यालय के पास चेकप्वाइंट पर अपनी गाड़ी को स्पीड देने की कोशिश की।

आतंकियों के निशाने पर मोगादीशू

बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में भी मोगादीशू में इसी तरह का हमला हुआ था। उस वक्त धमाके के लिए ट्रक का इस्तेमाल किया गया था। अक्टूबर में हुई धमाके में 512 लोगों की जान चली गई थी। यह अफ्रीका के इतिहास में सबसे घातक हमला बताया गया।

बताया जा रहा है कि 9/11 के बाद हुई हमलों में कई लोग मारे गए। इन सभी हमलों में सोमालिया के आतंकी संगठन अल-शबाब को दोषी ठहराया गया। वहीं, दो महीने पहले ही भी मोगादिशु के मुख्य पुलिस अकादमी में अल-शहाब के एक आतंकी ने घुसकर आत्मघाती हमला किया था। जिसमें 18 पुलिसवालों की मौत हुई थी।

Loading...

Check Also

प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने ब्रिटेन मे हिंदुओं के योगदान की तारीफ की...

प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने ब्रिटेन मे हिंदुओं के योगदान की तारीफ की…

लंदन: ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने ब्रिटेन में हिंदुओं द्वारा एकता के लिए पहल करने और …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com