आइए जानें मंकीपॉक्स के ऐसी एक्टिविटीज़ के बारे में जिनसे ये फैल सकता है

एक्टिविटीज़ के बारे में

भारत में बुधवार को मंकीपॉक्स का 9वां मामला सामने आया, जिसमें 31 वर्ष की नाइजीरिया की एक महिला मंकीपॉक्स पॉज़ीटिव पाई गईं। यह महिला भारत की पहली ऐसी महिला है, जिन्हें मंकीपॉक्स हुआ है। अधिकारियों ने उसमें बुखार और त्वचा पर घाव जैसे लक्षण नोट किए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, मरीज़ एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती है।

क्या है मंकीपॉक्स और इसके लक्षण

मंकीपॉक्स एक दुर्लभ, वायरल ज़ूनोटिक संक्रमण है, जो वायरस के एक ही परिवार से संबंधित है, जैसे कि वेरियोला वायरस, वायरस जो चेचक का कारण बनता है। बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों/पीठ में दर्द, सूजी हुई लिम्फ नोड्स, ठंड लगना, थकावट और कुछ श्वसन संबंधी समस्याएं वायरल रोग के सामान्य लक्षण हैं।

त्वचा से त्वचा के सीधे संपर्क से क्या मतलब है

अमेरिका के CDC के मुताबिक, मंकीपॉक्स किसी भी व्यक्ति के करीबी, व्यक्तिगत, अक्सर त्वचा से त्वचा के संपर्क के माध्यम से फैल सकता है, जिसमें मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति से मंकीपॉक्स रैश, स्कैब या शरीर के तरल पदार्थ के सीधे संपर्क में आना शामिल है।

रिकवरी के बाद भी हफ्तों तक वीर्य में बना रह सकता है वायरस

क्या मंकीपॉक्स एक यौन संचारित रोग है? यह सवाल इस समय कई लोगों के मन में है। एक्सपर्टिस इस वक्त इसे STD नहीं मानते हैं, लेकिन द लैंसेट के एक हालिया स्टडी से पता चलता है कि मंकीपॉक्स वायरस रिकवरी के बाद भी हफ्तों तक वीर्य में बना रह सकता है।

कपड़े, तौलिए या फिर बिस्तर से भी संक्रमण फैलता है

सीडीसी उन कपड़ों और चीज़ों को न छूने की भी चेतावनी देता है, जिनका उपयोग मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति ने किया है और जिन्हें डिसइंफेक्ट नहीं किया गया है।

ऐसा माना जाता है कि मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति जब से लक्षणों का अनुभव करना शुरू करता है और रैशेज़ ख़त्म होने तक, वायरस को दूसरों तक फैला सकता है। यह बीमारी 2 से 4 हफ्तों तक रह सकती है।

बंद जगहों में वायरस तेज़ी से और आसानी से फैल सकता है

सीडीसी के मुताबिक, बंद कमरे जैसे सॉना, क्लब्ज़ या प्राइवेट और पब्लिक पार्टीज़, जहां लोगों के बीच यौन संबंध बन सकता है। ऐसी जगहों में मंकीपॉक्स फैलने की अधिक संभावना हो सकती है।

क्या नाक या मुंह से निकलने वाली बूंदों से भी फैल सकता है?

मुख्य रूप से, मंकीपॉक्स वायरस से घावों या शारीरिक तरल पदार्थों के साथ लंबे समय तक त्वचा से त्वचा के संपर्क से फैलता है। हालांकि, सीडीसी के मुताबिक, संक्रमित व्यक्ति की सांस के संपर्क में आने से भी आपके रोग होने की संभावना बढ़ सकती है।

हालांकि यह पुष्टि नहीं करता है कि मंकीपॉक्स सांस के ज़रिए भी फैल सकता है, लेकिन स्वास्थ्य एजेंसी इसे पूरी तरह से खारिज भी नहीं करती है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने उन लोगों के संपर्क में आने के खिलाफ भी चेतावनी दी है, जिनमें मंकीपॉक्स से जुड़ी खांसी, छींकें और गले में खराश जैसे श्वसन लक्षण दिखा सकते हैं

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button