लग चूका है सूर्यग्रहण का सूतक, इन राशी के लोग रखें खास ध्यान, नहीं तो…

- in धर्म

15 फरवरी को सूर्य ग्रहण है जो इस साल का पहला सूर्य ग्रहण होगा। अभी हाल में पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण था। इसके बाद अमावस्या को सूर्य ग्रहण पड़ रहा है। हालांकि यह ग्रहण आंशिक है क्योंकि इसे सब जगह नहीं देखा जाएगा। इसे दक्षिणी अमेरिका, उरुग्वे और ब्राजील में ही देखा जा सकेगा। कहा जा रहा है कि यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा।

लग चूका है सूर्यग्रहण का सूतक, इन राशी के लोग रखें खास ध्यान, नहीं तो...

 

सूतक में कुछ काम हैं वर्जित
ग्रह दशा के मुताबिक सूर्य ग्रहण के 12 घंटे पहले सूतक लग जाता है। इस दौरान कुछ काम करने की मनाही होती है। इसलिए इस दौरान कोई भी शुभ काम करने से बचना चाहिए।

 

ग्रहण का क्या है समय?
भारतीय समय के मुताबिक, यह ग्रहण 15 फरवरी की रात 12 बजकर 25 मिनट पर शुरू होगा और 16 जनवरी को सुबह 4 बजे इसका मोक्ष होगा। लेकिन बताया जा रहा है 15 फरवरी को सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देगा क्योंकि इसका असर आंशिक है।

 

इन बातों का रखें ध्यान
सूर्य ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ काम नहीं करना चाहिए क्योंकि सूतक हावी रहता है। ग्रहण के बाद गरीबों में अन्न या अपनी राशि के अनुसार दान करना अच्छा माना जाता है। ग्रहण में गर्भवती महिलाओं बच्चों और बुजुर्गों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। ऐसी धारणा है कि उस वक्त की कुछ किरणें खतरनाक असर डाल सकती हैं। ग्रहण के दौरान पूजा पाठ का विधान है।

15 फरवरी दिन गुरुवार का राशिफल: जानिए आज क्या कहती है आपके सितारोकी चाल, किसकी बदलने वाली है लाइफ

 

13 फरवरी को सूर्य मकर राशि से कुंभ राशि में अपना स्थान बदल रहा है। इसके बाद सूर्य ग्रहण है। ऐसी दशा में सभी 12 राशियों पर सूर्य के इस गोचर का असर देखा जाएगा। जहां एक तरफ कुछ राशियों के लिए यह ग्रहण अच्छा साबित होगा वहीं कुछ राशियों पर इसका नकारात्मक प्रभाव रहेगा।

 

कहां-कहां दिखेगा ग्रहण?
यह ग्रहण दक्षिणी अमेरिका जिसमें अर्जेंटीना और चिली शामिल हैं, उरुग्वे और ब्राजील जैसे देशों में देखा जाएगा। एंटार्कटिका में यह अधिक देखा जाएगा।

क्‍या ना करें ग्रहण काल में : 

  • सूर्य ग्रहण के 12 घंटे से पूर्व ही सूतक लगने के कारण मंदिरों के पट भी बंद कर दिये जाते है. ऐसे में पूजा, उपासना या देव दर्शन नहीं किये जाते हैं। इस दौरान पूजा न करें। 
  • देव प्रतिमाओं के अलावा तुलसी वृ्क्ष, शमी वृ्क्ष को स्पर्श नहीं किया जाता है। 
  • ग्रहण के दौरान और सूतक काल में मांस व तामसिक भोजन वर्जित बताया गया है। 
  • सूर्य ग्रहण के दौरान और सूतक काल में सूरज की किरणों से बचने का प्रयास करें। बेहतर होगा क‍ि सूतक काल में भी सूर्य की तरफ आंखें करके न देखें। 
  • ग्रहण काल से जुड़ी एक मान्यता के अनुसार इस अवधि में सब्जी काटना, सीना-पिरोना आदि से बचना चाहिए। 
  • गर्भवती महिलाएं भी सूर्य ग्रहण के दौरान और सूतक काल में सूरज की किरणों से दूर रहें। ऐसा न करना होने वाले श‍िशु के लिए अच्‍छा नहीं माना जाता है। 

 

You may also like

नहाने के पानी में डाले इस तेल की दो बून्द फिर होगा चमत्कार

दुनिया में हर इंसान पैसे का लालची होता