मैदानी इलाकों में कोहरे, और शीतलहर ने किया लोगो का जीना दुश्वार…

उत्तराखंड में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मैदानी इलाकों में कोहरे, और शीतलहर से लोग परेशान हैं, तो पर्वतीय इलाकों में पारा माइनस डिग्री से भी नीचे पहुंच गया है। पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में तापमान माइनस तीन डिग्री पहुंचने से यहां जन जीवन प्रभावित हुआ है। बहते नलों में पानी जम रहा है, जिससे अब लोगों के लिए पीने के पानी का तक प्रबंध करना कठिन हो गया है।

ठंड इतनी है कि बहते नलों में पानी जम जा रहा है। मौसम के करवट बदलने से यहां कड़ाके की ठंड शुरू हो गई है। तापमान लुढ़कर माइनस तीन डिग्री पहुंच गया है। नलों में पानी के जमने से दुस्वारियां बढ़ गई हैं। शुक्रवार को यहां न्यूनतम तापमान माइनस एक डिग्री था, जो रविवार को घटकर माइनस तीन पर पहुंच गया।

अधिकतम तापमान में भी दो डिग्री कमी आई है। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 11  डिग्री था। यह रविवार को नौ डिग्री पहुंच गया। क्षेत्र में कड़ाके की ठंड से लोगों के लिए घर से बाहर शाम के समय निकलना कठिन हो रहा है। 
सर्द हवाएं भी लोगों की मुश्किल बढ़ा रही हैं। बलाती ईको पार्क क्षेत्र में नलों में पानी के जमने से लोग परेशान हैं। क्षेत्र की 27 हजार से अधिक आबादी इस समय कड़ाके की ठंड से परेशान है। इससे पर्यटन कारोबार भी प्रभावित हो रहा है। 

कपड़े धोना और सुखाना दोनों मुश्किल  
पानी के जमने से यहां लोगों के लिए कपड़े धोना व सुखाना मुश्किल हो रहा है। किसी तरह लोग बर्फ गलाकर पानी का प्रबंध भी कर रहे हैं। इसके बावजूद कपड़े धोना सुखाने भी कठिन हो गया है। 

अलाव तो जला दीजिए सरकार
मुनस्यारी में कड़ाके की ठंड के बाद भी राहगीरों को इससे बचाने के लिए कोई प्रबंध नहीं किए गये हैं। नगर में कहीं भी इस बार अलाव जलाने की व्यवस्था नहीं है। इससे बाहर से आए लोगों के साथ ही आम जन को भी खासी परेशानी हो रही है।

Back to top button