पंजाब में पराली जलाने से दिल्ली में दोगुना हुआ प्रदूषण: हार्वर्ड

हार्वर्ड विश्वविद्यालय ने नासा के उपग्रह डेटा का इस्तेमाल कर एक अध्ययन में यह निष्कर्ष निकाला है कि दिल्ली में अक्तूबर और नवंबर महीने में फैले दमघोंटू प्रदूषण में से आधी के लिए जिम्मेदार खेतों में जलाई जाने वाली पराली है. उत्तर पश्चिम भारत में किसान फसल कटाई के मौसम के बाद खेतों में पराली जलाते हैं ताकि खेतों को अगली फसल के लिए तैयार किया जा सके.

पिछले कुछ वर्षों से शरद ऋतु में नई दिल्ली में प्रदूषण के कारण धुंध छा जाती है जिससे राष्ट्रीय राजधानी गैस चैम्बर में तब्दील हो जाती है.

हार्वर्ड विश्वविद्यालय और नासा के शोधकर्ताओं ने अब पाया कि पंजाब में पराली जलाने के मौसम अक्तूबर और नवंबर में पराली जलाना दिल्ली में भयंकर प्रदूषण का कारण है. पराली जलाने से दिल्ली में दोगुना प्रदूषण हुआ. एसईएएस में स्नातक के छात्र डेनियल एच कसवर्थ ने कहा, ‘‘पराली जलाने के पीक मौसम के दौरान कुछ दिन दिल्ली में वायु प्रदूषण विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्वच्छ वायु के मानकों से करीब 20 गुना ज्यादा रहा.’’

छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की सीमा पर सुरक्षाकर्मियों के साथ मुठभेड़ में तीन नक्सली ढेर

यह अध्ययन‘ एनवायरनमेंटल रिसर्च लेटर्स’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है. इसमें नासा के उपग्रह से भेजे गए डेटा का इस्तेमाल किया गया है.

 
 
 
Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button