हिंदू नववर्ष 2018: जानिए, क्या है नवसंवत्सर का महत्व और क्यों मनाया जाता है यह

- in धर्म

यूं तो एक जनवरी को पूरी दुनिया में नया साल मनाया जाता है. लेकिन भारत में नया साल दो बार मनाया जाता है. एक अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 1 जनवरी को और दूसरा भारतीय कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से मनाया जाता है. इसे नवसंवत्सर कहते हैं. आज 18 मार्च 2018 से नवसंवत्सर आरंभ हो चुका है.

जहां अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार मनाए जाने नए साल पर ठंड का मौसम होता है वहीं भारतीय नव वर्ष पर मौसम सुहावना होता है. वसंत ऋतु का आरम्भ वर्ष प्रतिपदा से ही होता है. जो उल्लास, उमंग, खुशी तथा चारों तरफ पुष्पों की सुगंध से भरी होती है. फसल पकने का प्रारंभ, किसानों की मेहनत का फल मिलने का भी यही समय होता है.

सूर्य और चंद्रमा के अनुसार गणना

दरअसल भारतीय कैलेंडर की गणना सूर्य और चंद्रमा के अनुसार होती है. माना जाता है विक्रमादित्य के काल में सबसे पहले भारत से कैलेंडर अथवा पंचाग का चलन शुरू हुआ. इसके अलावा 12 महीनों का एक वर्ष और सप्ताह में 7 दिनों का प्रचलन भी विक्रम संवत से ही माना जाता है.

इन धार्मिक मान्यताओं के पीछे छिपे हैं वैज्ञानिक कारण

भारत में प्रचलित हैं अनेक काल गणनाएं

भारत में सांस्कृतिक विविधता के कारण अनेक काल गणनाएं प्रचलित हैं जैसे- विक्रम संवत, शक संवत, हिजरी सन, ईसवीं सन, वीरनिर्वाण संवत, बंग संवत आदि. इस वर्ष 1 जनवरी को राष्ट्रीय शक संवत 1939, विक्रम संवत 2074, वीरनिर्वाण संवत 2544, बंग संवत 1424, हिजरी सन 1439 थी किन्तु 18 मार्च 2018 को चैत्र मास प्रारंभ होते ही शक संवत 1940 और विक्रम संवत 2075 हो रहे हैं. इस प्रकार हिन्दु समाज के लिए नववर्ष प्रारंभ हो रहा है.

प्रतापी और न्यायप्रिय राजा थे विक्रमादित्य

भारतीय कालगणना में सर्वाधिक महत्व विक्रम संवत पंचांग को दिया जाता है. सनातन धर्मावलम्बियों के समस्त कार्यक्रम जैसे विवाह, नामकरण, गृहप्रवेश इत्यादि शुभकार्य विक्रम संवत के अनुसार ही होते हैं. विक्रम संवत् का आरंभ 57 ई.पू. में उज्जैन के राजा विक्रमादित्य के नाम पर हुआ. भारतीय इतिहास में विक्रमादित्य को न्यायप्रिय और लोकप्रिय राजा के रुप में जाना जाता है. विक्रमादित्य के शासन से पहले उज्जैन पर शकों का शासन हुआ करता था. वे लोग अत्यंत क्रूर थे और प्रजा को सदा कष्ट दिया करते थे. विक्रमादित्य ने उज्जैन को शकों के कठोर शासन से मुक्ति दिलाई और अपनी जनता का भय मुक्त कर दिया. स्पष्ट है कि विक्रमादित्य के विजयी होने की स्मृति में आज से 2075 वर्ष पूर्व विक्रम संवत पंचांग का निर्माण किया गया.

बहुत फलदायी है इस बार की नवरात्रि

संवत्सर के प्रकार

विक्रम संवत को नव संवत्सर भी कहा जाता है. संवत्सर 5 प्रकार का होता है जिसमें सौर, चंद्र, नक्षत्र, सावन और अधिमास आते हैं. हालांकि कई विद्वानों का मत है कि भारत में विक्रमी संवत से भी पहले लगभग 6700 ई.पू. हिंदुओं का प्राचीन सप्तर्षि संवत अस्तित्व में आ चुका था.

हिंदू नववर्ष का महत्व

माना जाता है कि अंग्रेजी कैलेंडर भारतीय कैलेंडर की ही नकल है. आज भी धार्मिक अनुष्ठान और शादी-विवाह हिंदू कैलेंडर के अनुसार ही होते हैं. इसके अलावा शुभ मुहूर्त और महापुरुषों की जयंती भी इसी कैलेंडर के अनुसार मनाई जाती है. इस दिन को महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा तो आंध्र प्रदेश में उगादी पर्व के रूप में भी मनाया जाता है.

You may also like

नहाने के पानी में डाले इस तेल की दो बून्द फिर होगा चमत्कार

दुनिया में हर इंसान पैसे का लालची होता