तबादला एक्ट को लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत ने दिया बड़ा बयान

देहरादून : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने तबादला एक्ट में शासन की ओर से संशोधन की कवायद को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि पूरा तबादला एक्ट ही रद करना चाहिए। इसमें मानवीय पहलुओं को जोड़कर नए सिरे से बनाया जाना चाहिए। तबादला एक्ट को लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत ने दिया बड़ा बयान

शिक्षिका उत्तरा प्रकरण पर तबादलों को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में उत्तरा के लिए एक एक्ट और भाजपा नेताओं की शिक्षिका पत्‍‌निंयों के लिए अलग एक्ट नहीं हो सकता। सभी के लिए एक्ट एक समान होना चाहिए। 

जनता दरबार में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की टिप्पणी पर तंज कसते हुए हरीश रावत ने कहा कि शिक्षिका ने जहां अपनी पीड़ा रखी वह जनता दरबार था, राजदरबार नहीं। जनता दरबार में समस्याओं को सुन कर उनका निस्तारण किया जाता है। राजदरबार में इस तरह के फरमान सुनाए जाते हैं।

हिमालय के पुत्र व संजीदा राजनेता हरीश 

पत्रकारवार्ता में मैगसेसे अवार्ड से सम्मानित राजेंद्र सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री के साथ पत्रकारवार्ता करने के संबंध में पूछे गए सवाल पर कहा कि वह दलगत राजनीति से मुक्त इंसान है। वह किसी दल के नहीं, बल्कि गंगा के हैं। हरीश रावत को वह हिमालय के पुत्र व संजीदा नेता के रूप में देखते हैं। 

जहां तक कांग्रेसी नेताओं के साथ मंच साझा करने की बात है तो जब घर जल रहा होता है तो कोई मदद करने वाले की जाति नहीं पूछता। गंगा व हिमालय में आग लगी है, इसे बुझाने जो आगे आए हैं उनका स्वागत है। इस विषय में सबको राजनीति नहीं बल्कि बड़ी भावना के साथ आगे आना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बड़ा हादसा: हाईटेंशन की चपेट में आकर श्रमिकों से भरी बस बनी आग का गोला, राहत-बचाव कार्य जारी

उत्तराखंड के रुड़की में मंगलवार सुबह एक बड़ा