हैपी और हेल्थी खाने का बच्चे को फर्क समझाएं, नहीं तो…

- in खाना -खजाना, हेल्थ
रोजाना की भागदौड़ में, तो आप चाहकर भी बच्चों को अच्छी तरह यह नहीं समझा पातीं कि उनकी सेहत के लिए कैसा खाना अच्छा है। बस, बच्चा कुछ खाकर स्कूल चला जाए और अपना लंच फिनिश करके लाए, इस चक्कर में उनकी पसंदीदा चीजें उन्हें परोस देती हैं। कुछ चीजें खाने में तो अच्छी लगती हैं लेकिन हेल्थ के लिए सही नहीं होती हैं। इसी तरह, कुछ खाने में लजीज नहीं होतीं, लेकिन हेल्थ को फायदा देती हैं। वैसे, इस हैपी और हेल्थी ईटिंग का फर्क बच्चों को खासतौर पर पता होना चाहिए। तो उन्हें समझाने की शुरुआत आप साल के शुरू से ही कर सकते हैं। जानें कैसे…
हैपी और हेल्थी खाने का बच्चे को फर्क समझाएं, नहीं तो...
इस समय आप बच्चों को फास्ट फूड से होने वाले नुकसान और न्यूट्रिशंस फूड के फायदे के बारे में बता सकती हैं। आप बच्चों को इस तरह समझा सकती हैं कि जो चीजें खाने में अच्छी लगती हैं, वह उन्हें खाकर खुश तो हो सकते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि हेल्थी भी बनें। दरअसल, हेल्थी ईटिंग और हैपी ईटिंग दो अलग-अलग बातें हैं। जो चीजें खाने में अच्छी लगती है, जरूरी नहीं कि वे हेल्थ के लिए भी अच्छी हों। जो चीजें सेहत के लिए अच्छी होती हैं, जरूरी नहीं कि वे खाने में भी लजीज ही लगें। इसलिए सबसे पहले बच्चों को यह अंतर पता होना जरूरी है।

खाना सभी लोग साथ बैठकर डाइनिंग टेबल पर खाएं। खाते वक्त टीवी न देखें क्योंकि इससे ध्यान भटकता है। आप खुद भी हेल्थी फूड खाएं। आप जो खाते हैं, उसका आपके बच्चे पर बहुत प्रभाव पड़ता है। वहीं, खाने-पीने का सामान खरीदते वक्त बच्चों को शामिल करें। इससे उनमें चीजों को लेकर इंटरेस्ट डिवेलप होगा। यही नहीं, उन्हें कुकिंग प्रोसेस में शामिल करना भी अच्छा होगा। कुकिंग करते समय उन्हें चीजों के न्यूट्रिशंस वैल्यू को जानने व समझने में मदद मिलेगी। वहीं, खाना खाने से पहले बच्चे को भूख महसूस हो, तो उसे चिप्स व कुकीज़ न दें। सेब, ड्राई फ्रट्स और दही जैसी चीजें दे सकती हैं।

तिल के ये 10 फायदे जान जाओगे तो रोज खाओगे, चीन और…

 कुकिंग के लिए सही प्रोसेस यूज करें। लाइट फ्राई करें। ऐसी चीजों की क्वांटिटी कम करें, जो हेल्थी न हों, मसलन मैदा। साबुत गेहूं का पास्ता सब्जियों के साथ पकाया जा सकता है या फलों की कोई नई रेसिपी।
अगर बच्चा फास्ट फूड खाने की जिद कर रहा है, तो खिलाएं लेकिन हेल्थी रूप में। मसलन, बर्गर में आलू की जगह कई तरह की सब्जियां भरें। इसे रिफाइंड तेल में फ्राई करें। इसी तरह नूडल्स को कई सब्जियों के साथ मिलाकर खाएं। रेस्तरां में ग्रिल्ड सैंडविच, रैप्स, सलाद व फलों से बनी चीजें प्रिफर करें।
Patanjali Advertisement Campaign

You may also like

ये हैं घर पर रशियन सलाद बनाने की आसान रेसेपी

अक्सर जब कभी आप बाहर खाना खाने गये