हर भारतीय को पता होना चाहिए गणतंत्र दिवस से जुड़ी ये बातें, क्या आपको पता है?

26 जनवरी 2018 को भारत का 69वां गणतंत्र दिवस है। गणतंत्र दिवस को भारत में राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। यहां हम आपको इस राष्ट्रीय त्यौहार की ऐसी बातें बताएंगे जो हर भारतीय को पता होना चाहिए।

हर भारतीय को पता होना चाहिए गणतंत्र दिवस से जुड़ी ये बातें, क्या आपको पता है?

1. संविधान सभा के 308 सदस्यों ने महीनों की मेहनत के बाद संविधान लिखा। 24 जनवरी 1950 को संविधान की दो प्रतियों पर इन सदस्यों ने हस्ताक्षर किए और दो दिन बाद यानी 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू हुआ। इसे 26 जनवरी को ही लागू किया गया, क्योंकि 1930 में इसी दिन भारत को पूर्ण स्वराज घोषित किया गया था।

 

2. भारत का संविधान विश्व के किसी भी गणतांत्रिक देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है। संविधान बनाते समय अलग-अलग देशों के संविधानों की बातों को शामिल किया गया और जरूरत के हिसाब से वक्त-वक्त पर संशोधन किया गया।

3. 26 जनवरी 1950 को देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने दिल्ली के दरबार हाल में शपथ ली थी। तब पं. जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री थे और मेहमान के रूप में उनके करीबी दोस्त माने जाने वाले इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो को आमंत्रित किया गया था।

4. रिपब्लिक डे एक दिन नहीं, बल्कि तीन दिन का उत्सव है। 29 जनवरी को बीटिंग रिट्रीट के साथ यह समाप्त होता है।

गणतंत्र दिवस में चीफ गेस्ट होंगे ये 10 नेता, आसियान से हैं भारत के कुछ संबंध

 

5. गणतंत्र दिवस परेड शुरू से राजपथ पर नहीं हो रही है। 1950 से 1954 तक यह उत्सव अलग-अलग जगह मनाया गया जैसे – इर्विन स्टेडियम, लाल किला और रामलीला मैदान। फिर 1955 में राजपथ पर परेड हुई, जिसके बाद से यह सिलसिला चला आ रहा है।

6. राजपथ पर पहली बार हुई परेड में विदेशी मेहमान थे पाकिस्तान के गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मोहम्मद।

7. गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुआत ‘जन-गण-मन’ से होती है। वहीं समारोह की समाप्ति में ‘सारे जहां से अच्छा’ और ‘Abide with me’ गीत बजाए जाते हैं। ‘Abide with me’ एक क्रिश्चियन गीत है, जो महात्मा गांधी को बहुत पसंद था।

 

8. 2017 में पहली बार एनएसजी कमांडो ने गणतंत्र दिवस समारोह में हिस्सा लिया था।

9. 26 जनवरी 2018 का दिन खासतौर पर याद रखा जाएगा, क्योंकि इस साल गणतंत्र-दिवस समारोह के लिए सभी दस आसियान देशों के नेता मुख्य-अतिथि के रूप में भारत आएंगे।

 

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button