यू-ट्यूब पर बैन के बावजूद उपलब्ध है ये 6 बेहद बोल्ड फिल्में

फ़िल्मकार बड़ी मेहनत और लगन के साथ किसी फिल्म को बनता हैं इसके पीछे कलाकार, लेखक, निर्माता, कैमरा पर्सन और ना जाने कितने ही लोगो की दिन – रात की कड़ी मेहनत होती है तब जाकर एक फिल्म देखने लायक बनती हैं | उसके बाद सबसे बड़ा काम आता हैं फिल्म को प्रमाण पत्र देने का जो हर फिल्मकार के लिए सिरदर्द होती हैं क्यूंकि सेंसर बोर्ड उसे क्या प्रमाणपत्र देगा, कितनी कान्त -छांट करेगा ये उसे भी नहीं पता होता हैं |

देश में फिलहाल संजय लीला भंसाली की फिल्म “पदमावती” को लेकर काफी शोर शराबा हो रहा हैं जगह – जगह पर तोड़-फोड़ और धमियों का सिलसिला चालू हैं | भारत में ऐसी बहुत सारी फ़िल्में बनी हैं जो कभी हिंसा तो कभी अपने बोल्ड विषय को लेकर बैन हो गयी हैं , लेकिन बैन के बावजूद भी कुछ फिल्में ऐसी हैं जिसे बड़ी आसानी से यूट्यूब पर देखा जा सकता हैं | चलिए पता करते हैं ऐसी कौन – कौन से फिल्में हैं |

अनफ्रीडम : समलैंगिक संबंधों पर बनाई गई फिल्म “अनफ्रीडम” को सेंसर बोर्ड ने बैन कर रखा हैं क्यूंकि इस फिल्म को आप अपने परिवार को साथ नहीं देख सकते हैं | लेकिन इस फिल्म को आप यूट्यूब पर बड़ी ही आसानी से देख सकते हैं |

Ujjawal Prabhat Android App Download Link

1

सीन्स : साल २००५ में आई ये फिल्म एक पादरी और एक महिला के सम्भन्धों पर बनाई गई हैं, जिसे लेकर ईसाई धरम में काफी बवाल हुआ था और सेंसर बोर्ड ने इसे रिलीज़ ना करने का फैसला लिया लेकिन यूट्यूब पर ये फिल्म कई साल से पडी हैं और इसे देखने वालो की लिस्ट काफी बड़ी हैं |

2

बेंडिट क्वीन : चम्बल घाटी की डकैत फूलन देवी के जीवन पर आधारित ये फिल्म आपके दिल को छु लेगी | जिस तरह से फूलना देवी और उसके परिवार के साथ अन्याय हुआ था उसे सही मायनो में बड़े परदे पर दिखाया जाना चाहिए था लेकिन फिल्म में खून-खराबे और बोल्ड दृश्यों की वजह से सेंसर बोर्ड ने अंतिम फैसला ये लिए की इस फिल्म को सिनेमाघरों में ना दिखाया जाएं | लेकिन इस फिल्म को आप यूट्यूब पर देख सकते हैं और आपको देखना ही चाहिए |

3

कामसूत्र : १९९६ में मीरा नैर ने सोचा भी नहीं था की जिस देश की गुफाओं और मंदिरों में कामसूत्र की मूर्तीया दिखती है वहीँ देश इस तरह की फिल्म को बैन कर देगा | सच कहें तो सही मायनो में इस फिल्म को बड़े परदे पर नहीं दिखाया जा सकता था क्यूंकि इस फिल्म में कामुक दृश्यों की बाढ़ हैं जिसे परिवार के साथ देखना सही नहीं था | लेकिन यूट्यूब पर इस फिल्म को करोडो लोगो ने एक – दो बार नहीं बल्कि कई बार देखा हैं |

contoh1-88f2a7

पांच : 2003 में इस फिल्म को अनुराग कश्यप ने बनाई थी .सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को इसलिए बेन किया क्यूंकि ये फिल्म में बहुत ज्यादा हिंसा और नशाखोरी के अलावा और भी बहुत कुछ दिखाया गया था। हालाँकि ये फिल्म यूट्यूब पर उपलब्ध हैं।

अब इस पड़ोसी देश ने फिल्म ‘पद्मावत’ को अपने देश में किया बैन…

5

यू र ऍफ़ प्रोफेसर : शरमन जोशी, मनोज पाहवा और अन्तर माली अभिनीत इस फिल्म को पंकज आडवाणी ने बनाया था लेकिन फिल्म में बोल्ड और हिंसात्मक दृश्यों की वजह से इस फिल्म को सेंसर बोर्ड ने बैन कर दिया |

6

इन सब बातों से तो यही अर्थ निकलता है की आप पानी को रोकने की कितनी भी कोशिश कर लो वो अपना रास्ता ढून्ढ ही लेते हैं और मंज़िल तक पहुँच ही जाती है | सेंसर बोर्ड हो या राजनैतिक पार्टी कोई कितनी भी कोशिश कर लें फिल्म एक बार बन गयी तो वो दर्शकों तक पहुँच ही जाएगी |

 
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button