नई दिल्ली: फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण के क्वार्टर फाइनल मुकाबले में मेजबान रूस का सामना शनिवार को फिश्ट स्टेडियम में क्रोएशिया से होगा. टूर्नामेंट के पहले मुकाबले में धमाकेदार जीत दर्ज करने वाली रूस की टीम क्रोएशिया के खिलाफ अपनी आक्रमकता के बल पर जीत दर्ज करना चाहेगी. दूसरी तरफ क्रोएशिया की कोशिश 20 साल बाद एक बार फिर सेमीफाइनल में कदम रखने की होगी. रूस ने ग्रुप चरण में तीन में से दो मैच जीतकर छह अंकों के साथ अंतिम-16 में प्रवेश किया जहां उसने स्पेन को पेनाल्टी शूटआउट में हराकर क्वार्टर फाइनल में कदम रखा. रूस को एक बार फिर अपने दो स्टार खिलाड़ियों अर्टेम ज्यूबा और डेनिस चेरिशेव से काफी उम्मीदें होंगी जो टूर्नामेंट में अब तक तीन-तीन गोल दाग चुके हैं.

वर्ष 1991 में सोवियत संघ के विघटन के बाद से रूस कभी भी ग्रुप चरण से आगे नहीं बढ़ा है और इस बार उसके पास अपने घरेलू दर्शकों के सामने इतिहास रचने का मौका है. सोवियत संघ के रूप में उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 1966 में रहा था जब उसने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था. वैसे रूस के शहर यारोस्लावल में एक डॉल्फिन ने मेजबान टीम के जीतने और सेमीफाइनल में पहुंचने की भविष्यवाणी की है. यह देखना दिलचस्प होगा कि डॉल्फिन की यह भविष्यवाणी कहां तक सही साबित होती है.

रूस और क्रोएशिया की टीमें शूटआउट में जीत दर्ज कर क्वार्टर फाइनल तक पहुंची हैं. ऐसे में मुकाबला कड़ा होने की उम्मीद है क्योंकि दोनों ही टीमें जल्दी गोल खाना नहीं चाहेगी. क्रोएशिया ने भी अपने प्रदर्शन से सभी को चौंकाया है. क्रोएशिया ग्रुप चरण में तीन मैचों में तीन जीत के साथ नौ अंक लेकर अंतिम-16 में पहुंचा था जहां उसने डेनमार्क को पेनाल्टी शूटआउट में 3-2 (1-1) से हराकर क्वार्टर फाइनल में कदम रखा है.

क्रोएशिया 1998 में पहली बार विश्व कप के सेमीफाइनल पहुंचा था और उसकी कोशिश 20 साल बाद एक बार फिर से अंतिम-4 में पहुंचने की होगी. टीम के स्टार खिलाड़ियों में शामिल लुका मोड्रिक से टीम को काफी उम्मीदें होंगी. रियल मेड्रिड के लिए खेलने वाले मोड्रिक के अलावा टीम के 16 खिलाड़ी यूरोप की पांच बड़ी लीग में खेलते है जिसका फायदा टीम को मिलता दिख रहा है.

कोएशिया हालांकि रूस को हल्के में नहीं लेना चाहेगा जिसने अब तक शानदार प्रदर्शन किया है. क्रोएशिया को मैदान पर रूस से पार पाने के साथ-साथ उसके घरेलू दर्शकों के समर्थनों से भी पार पाना होगा जो उसके लिए एक अलग ही चुनौती की तरह होगी.

टीम क्रोएशिया :-

गोलकीपर : डेनिजेल सुबासिक, लोवरो कालिनिक और डोमिनिक लिवाकोविक.

डिफेंडर : वेद्रन कोलुर्का, डोमागोज विदा, इवान स्ट्रिनीक, डेजान लोवरेन, सिमे वसाल्जको, जोसिप पीवारिक, टिन जेडवेज, डुजे सालेटा कार.

मिडफील्डर : लुका मोड्रिक, मटिओ कोवाचिक, इवान रेकिटिक, मिलान बाडेल्ज, मासेर्लो ब्राजोविक और फिलिप ब्राडेरिक.

फॉरवर्ड : मारियो मांजुकिक, इवान पेरीसिक, निकोला कालिनीक, एंद्रेज करामारिक, मार्को पीजासा और एंटे रेबिक.

टीम रूस :-

गोलकीपर : इगोर एकिन्फेव, व्लादिमीर गैबुलोव, एंड्री ल्यूनेव.

डिफेंडर : व्लादिमीर ग्रेनाट, रुस्लान कंबोलोव, फेडर कुद्रीशोव, इल्या कुटेपोव, आंद्रे सेम्योनोव, इगोर स्मोलनिकोव, मारियो फनार्डेज.

मिडफील्डर : युरी गाजिंस्की, एलेक्जेंडर गोलोविन, एलन ड्झागोव, युरी झिर्कोव, रोमन जोबिन, डालेर कुज्येव, एंटोन मिरंचुक, एलेक्जेंडर सामेडोव, एलेक्जेंडर ताश, डेनिस चेरीशेव.

फॉरवर्ड : अर्टेम ज्युबा, एलेक्सी मिरांचुक, फेडर स्मोलोव.