BALRAMPUR NEWS : एक क्लिक में पढ़े बलरामपुर की हर बड़ी खबर

बसंत लाल इंटर कॉलेज में शोक सभा का आयोजन

तुलसीपुर/बलरामपुर। स्थानीय बसंत लाल इंटर कॉलेज में सोमवार को शोक सभा का आयोजन किया गया जिसमें जिला विद्यालय निरीक्षक महेंद्र कुमार कनौजिया के असामयिक निधन पर 2 मिनट का मौन रखकर ईश्वर से प्रार्थना की गई कि उनकी आत्मा की शांति मिले तथा भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई।

इस अवसर पर कालेज के प्रधानाचार्य डॉ0 ओपी मिश्रा, लालमणि, बीपी सैनी, मनोज कुमार यादव, अब्दुल मोइन खान, सुभाष चंद्र मिश्रा ,सिराज अहमद, राम आधार पांडे, बृजलाल सहित कॉलेज परिवार के समस्त कर्मचारी ने श्रद्धांजलि दी।

परिषदीय विद्यालयों में हुआ पुस्तक वितरण

श्रीदतगज/बलरामपुर। विकास खण्ड श्रीदत्तगंज के १८१ प्राथमिक विद्यालयों के ११० विघालयो में शासन से आई किताबों का वितरण कर दिया गया है। इसकी जानकारी एबीएसए श्रीदत्तगंज ने देते हुए बताया कि शासन ने छात्रों के लिए किताबें भेजी है। विधालय बंद होने से छात्रों के अभिभावकों को विधालय में बुलाकर उनके बच्चों की किताबें उन्हें दी जा रही है। कुल ११० विघालयो में किताबें वितरित की जा चुकी है। शेष ७१ विघालयो में छात्रों को किताबों के वितरण के लिए न्याय पंचायत प्रभारियों को वितरण का दायित्व दिया गया है। उन्हें निर्देश दिया गया है कि विघालय के छात्रों के किताबों का वितरण तत्काल करा दे। इससे छात्रों को अपने घर पर रहकर पढ़ाई करने में मदद मिलेगी।

सड़क के गडढे में जलभराव के विरूद्ध की ग्रामीणों ने धान की रोपाई

सादुल्लाह नगर /बलरामपुर। सादुल्लाह नगर -बभनान मार्ग पर गूमा फातमा जोत में बड़े बड़े गडढे में जलभराव के विरूद्ध सड़क के गडढों में रमेश गुप्ता के नेतृत्व में धान की रोपाई कर ग्रामीणों ने विरोध जताया  विधायक उतरौला राम प्रताप वर्मा ने मौके पर पहुंच कर ग्रामीणों को जल्द समस्या का निराकरण करने का आश्वासन दिया।

मानव-वन्यजीव संघर्ष को आपदा घोषित करने व वृक्षारोपण में यूपी देश में अग्रणी

बलरामपुर। प्राकृतिक संसाधनों में वनों की अत्यन्त ही महत्वपूर्ण भूमिका पाई गई है। वन हमारे अतीत के गौरव, संस्कृति, सभ्यता व विकास के प्रतीक हैं। वनों से हमें एक ओर जहां इमारती लकड़ी, ईंधन, चारा, रबर, गोंद, लाख, औद्योगिक विकास के लिए कच्चा माल, जड़ी-बूटियां, फल-फूल व विविध प्रकार के रसायन प्राप्त होते हैं, वहीं दूसरी तरफ वनों से विदेशी मुद्रा अर्जन, रोजगार सृजन, जलवायु को समुचित बनाये रखने, भू-क्षरण व रेगिस्तान के फैलाव को नियंत्रित करने, प्राकृतिक सौन्दर्य को बढ़ाने, पर्यावरण की सुरक्षा, वर्षा लाने, वायु को शुद्ध करने सहित प्राणदायिनी वायु व जीवों की उत्पत्ति में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं। उ0प्र0 सरकार ने वनों के क्षेत्र को बढ़ाने पारिस्थितिकीय संतुलन बनाये रखने, वन्य जीवों व मानव संघर्ष को आपदा घोषित करने जैसे कई फैसले लेते हुए सुरक्षा प्रदान किया है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आह्वान पर कोरोना वायरस के फैलाव के बावजूद प्रदेश के किसानों, आमजन के सहयोग से वन विभाग सहित 26 विभागों के अथक प्रयासों से मिशन वृक्षारोपण 2020 के अन्तर्गत प्रदेश में 05 जुलाई, 2020 को एक ही दिन में 25.87 करोड़ वृक्षों का रोपण कर ऐतिहासिक उपलब्धि अर्जित करते हुए विश्व कीर्तिमान स्थापित किया गया है। इस विश्व कीर्तिमान को स्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री जी ने कुकरैल वन में वृक्षारोपण कर शुरूआत की, और पूरे प्रदेश में वृहद स्तर पर सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाकर विभागों और आमजन, किसानों विभिन्न संगठनों ने उल्लास और समर्पण भाव से भाग लेते हुए वृक्षारोपण किया है। प्रदेश सरकार का ध्येय है कि प्रदेश का वनाच्छादन बढ़ाया जाय। वनाच्छादन बढ़ाने के लिए यह जरूरी है कि प्रदेश में खाली पड़ी जमीनों, सड़कों, नहरों, नदियों के किनारे, बंजर व अन्य पथरीली जमीन जहां जो वृक्ष लग सकें, खेतों के मेड़ों, आदि में वृक्षारोपण किया जाय जिससे हर क्षेत्र में धरती की हरीतिमा दिखाई पड़े।

राष्ट्रीय वन नीति एवं राज्य वन नीति 2017 के अनुसार प्रदेश का एक तिहाई भू-भाग वनाच्छादित व वृक्षाच्छादित होना चाहिए। भारतीय वन सर्वेक्षण रिपोर्ट 2019 के अनुसार उत्तर प्रदेश के कुल भौगोलिक क्षेत्र का कुल 9.19 प्रतिशत क्षेत्र ही वनावरण व वृक्षावरण है। इसे बढ़ाने के लिए प्रदेश सरकार ने जो कदम उठाया उसमें काफी सफलता भी मिली है। मुख्यमंत्री जी के निर्देशन में प्रदेश की हरीतिमा लाई जा रही है। वर्तमान सरकार के 3 वर्ष के कार्यकाल में 40.08 करोड़ तथा जुलाई 2020 में 25.87 करोड़ अब तक के कार्यकाल में पूरे प्रदेश में कुल 66.95 करोड़ वृक्षारोपण किया गया है।

इतनी बड़ी संख्या में वृक्षारोपण होने से वनाच्छादन क्षेत्र बढ़ा है। सरकार ने नमामि गंगे परियोजना के तहत बिजनौर से बलिया तक पदयात्रा कार्यक्रम आयोजित करते हुए लोगों को गंगा हरीतिमा बनाये रखने के लिए विशेष अभियान चलाया जिसके तहत गंगा किनारे रहने वालों को प्रेरित किया गया कि वृक्षारोपण से भी गंगा की स्वच्छता और निर्मलता बनी रहेगी। उत्तर प्रदेश में गंगा के प्रवेश से लेकर बलिया तक के 27 जनपदों के दोनों तटों से 10 किमी0 के अन्दर करोड़ोे पौधों का रोपण करते हुए गंगा हरीतिमा अभियान के तहत वृहद वृक्षारोपण किया गया। उसी तरह गंगा व यमुना की 40 से अधिक सहायक नदियों के तटों के दोनों ओर वृहद स्तर पर वृक्षारोपण किया गया।

प्रदेश सरकार वन क्षेत्र बढ़ाने के साथ-साथ वन्य जीवों की सुरक्षा पर भी विशेष ध्यान दे रहीं हैं। वन्य जीवों द्वारा मनुष्यों पर कभी-कभी आकस्मिक हमला भी कर दिया जाता है। बढ़ती आबादी के दबाव के कारण वन क्षेत्र के आस-पास के लोग वनों में अपनी कुछ दैनिक आवश्यक वस्तुओं के लिए जंगली क्षेत्र में चले जाते हैं और उन पर वन्य जीव हमला कर देते हैं, परिणामस्वरूप कभी-कभी हमले से जान भी चली जाती है। ऐसी स्थिति में गरीब परिवार के कमाऊ व्यक्ति की मृत्यु होने पर परिवार के समक्ष आर्थिक संकट खड़ा हो जाता है। उ0प्र0 के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी देश के पहले मुख्यमंत्री हैं जो मानव वन्य जीव संघर्ष को राज्य आपदा घोषित किया है। सरकार के इस कदम से मानव-वन्य जीव संघर्ष की घटनाओं से प्रभावित लोगों को आर्थिक अनुग्रह सहायता राशि मिल रही है। इससे आम जनता लाभान्वित हो रही है।

स्टाम्प बिक्रेताओं को बलरामपुर से स्टाम्प खरीदने के दौरान काश्तकारों को हो रही परेशानी

उतरौला(बलरामपुर)। तहसील मुख्यालय पर उपकोषागार न होने तथा स्टाम्प बिक्रेताओं को बलरामपुर से स्टाम्प खरीदने के दौरान काश्तकारों को हो रही परेशानी के मद्देनजर अधिवक्ता संघ उतरौला मंगलवार से हड़ताल पर रहेगा। यहाँ तक कि बैनामे का पंजीयन भी रोक कर विरोध दर्ज कराएगा।

इन आशय की जानकारी देते हुये अधिवक्ता संघ उतरौला महामंत्री राकेश कुमार श्रीवास्तव उर्फ राजन श्रीवास्तव ने बताया कि स्टाम्प बिक्रेताओं को एक दिन पैसा जमा करने के लिये और दूसरे दिन स्टाम्प लाने के लिये बलरामपुर जाना पड़ता है। उतरौला से बलरामपुर स्टाम्प खरीदने के लिये नगद लेकर बलरामपुर जाने के दौरान जान माल का खतरा बना रहता है।

वहीं समय से स्टाम्प न मिलने से बैनामा कराने में काश्तकारों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अधिवक्ता संघ की मांग है कि स्टाम्प बिक्रेताओं से चालान धनिराशि उतरौला बैंक में ही जमा करवाया जाए।ताकि किसी भी प्रकार की जोखिम से बचा जा सके।

आतंकी यूसुफ को आर्थिक सहायता देने वाले तक नही पहुंच सका पुलिस का हाथ

बलरामपुर। बलरामपुर जिला भारत नेपाल सीमा पर बसा है। सीमावर्ती क्षेत्र होने व खुली सीमाओं के कारण विभिन्न प्रकार के अपराधों की संम्भावनाओं से नकारा नहीं जा सकता है। नेपाल राष्ट्र से आये दिन अवैध हथियार, नशीले पदार्थ, शराब, पान मसाले सहित अन्य चीजों की तस्करी होती है। तस्कर दोनों देशों की मित्रता व खुली सीमाओ का भरपूर लाभ उठाते है और आसानी से एक देश से दूसरे देश में चले जाते है। 

बलरामपुर जिला शुरू से ही सवेदन शील जिला माना जाता है। पूर्व में भी कई आतंकी गतविधियो में बलरामपुर जिले का नाम जुड़ चुका है। बावजूद इसके यहाँ की पुलिस और ख़ुफ़िया तंत्र पूरी तरह से निष्क्रिय है। बड़ा सवाल यह है की दिल्ली में पकड़ा गया आतंकी अबु युसूफ उर्फ़ मुस्तकीम अपने गांव के कब्रिस्तान में बम बनाकर चेक करता रहा लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नही लगी। ये कही न कही लोकल पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करता है। बलरामपुर का रहने वाला आतंकी दिल्ली पहुचता है और वहा स्पेशल टीम द्वारा गिरफ्तार किया जाता है लेकिन बलरामपुर की पुलिस को इसकी भनक तक नही लगी। आतंकी मुस्तकीम के गाँव के दूसरे लोग भी विदेशो में रहते है। ऐसे में गांव के अन्य लोगो पर भी खुफिया विभाग की नजर है

दो साल से मुस्तकींम आतंक फ़ैलाने की तैयारी, सोती रही पुलिस

दिल्ली के स्पेशल टीम ने जिस आतंकी अबु युसूफ उर्फ़ मुस्तकीम को गिरफ्तार किया है वह दो साल से आतंक फ़ैलाने की तैयारी क्र रहा था। लेकिन बलरामपुर की पुलिस और ख़ुफ़िया तंत्र को इसकी भंनक तक नही लगी। मुस्तीकीम ने उतरौला में रहकर ही धमाका करने का सामान जुटाया। उसके घर से भी दिल्ली से आई स्पेशल टीम ने भारी मात्रा में विस्फोटक और फियादीन हमले में प्रयोग की जाने वाली जैकट बरामद की। बताया जा रहा है की मुस्तकीम के तार सीमा पार बैठे आतंकी आकाओ तक जुड़े थे। इतनी बड़ी साजिश बलरामपुर पुलिस के नाक के नीचे होती रही लेकिन यहाँ की पुलिस और ख़ुफ़िया एजेंसिया सोती रही। अगर आईबी की टीम उस पर नजर न रख रही होती और वह गिरफ्तार न होता देश में आतंक की नई पटकथा लिखी जाती।

आतंकियो का सुरक्षित जोन है बलरामपुर

भारत नेपाल सीमा पर बसा बलरामपुर जिला आतंकियों के लिए सुरक्षित जोन माना जाता है। कई बड़े अपराध में बलरामपुर जिले का नाम जुड़ चूका है। वर्षो पूर्व बलरामपुर के युवक ने पाकिस्तानी नागरिकता भी ली थी जिसके बाद काफी हंगामा खड़ा हुआ था। संवेदनशील जिला होने बावजूद यहाँ की पुलिस और ख़ुफ़िया एजेंसियो का तंत्र पूरी तरह फेल है। जिले से ही इतनी बड़ी आतंकी साजिश रची गई लेकिन यहाँ न तो पुलिस न ही अन्य किसी ख़ुफ़िया एजेंसी को भनक लगी

कहाँ से मिल रही थी आतंकी युसूफ को आर्थिक मदद

आतंकी मुस्तकीम उर्फ़ युसूफ ने पकडे जाने के बाद कई खुलासे किये। लेकिन बड़ा सवाल यह है की आतंक की फैक्टरी लगाने के लिए आतंकी युसूफ को आर्थिक मदद कहा से मिल रही थी। दिल्ली से बलरामपुर पहुँची स्पेशल टीम ने युसूफ की निशानदेही पर कई लोगो को हिरासत में लिया और छापेमारी की। हिरासत में लिए गए लोगो से घण्टो पूछतांछ करने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया। दिल्ली कि स्पेशल टीम छानबीन करने में जुटी है की आतकी युसूफ को आर्थिक सहायता कहा से मिल रही थी। जिससे वह इतनी बड़ी साजिश रच रहा था।

पुलिस नाकामियों को लेकर सदमे में

लगातार तीन दिनों से जिले के एसपी व अन्य पुलिस अधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश की जा रही है लेकिन न तो फोन उनके द्वारा उठाया जा रहा है और न ही कॉल बैक किया जा रहा।बलरामपुर पुलिस को आतंकी यूसुफ के बारे में जानकारी न होने का मलाल है।कभी अपने गुड़वर्क को वीडियो और बाईट सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचारित करने वाली बलरामपुर पुलिस अपने नाकामियों की वजह से मुंह छुपाए बैठी है।

गौशाला निर्माण के मानक व गुणवत्ता की हो जांच- अमरेश बहादुर सिंह

बलरामपुर।  सामाजिक संस्था राप्ती युवा विकास मंच की बैठक कैंप कार्यालय बिजलीपुर में आयोजित की गई बैठक में छुट्टा जानवरों के लिए बनाए गए गौशाला निर्माण के अनियमितता की जांच कराने के लिए जिलाधिकारी से प्रतिनिधिमंडल मुलाकात करेगा। साथ ही साथ मंच के वार्षिक कार्यक्रमों पर समीक्षा की गई।

बैठक की अध्यक्षता कर रहे मंच अध्यक्ष अमरेश बहादुर सिंह ने कहा प्रदेश व केंद्र सरकार छुट्टा जानवरों के प्रति काफी गंभीर है गोवंश के लिए जगह-जगह पर गौशाला बनाई गई है। गौशाला निर्माण के लिए कार्यदाई संस्थाओं को भारी-भरकम बजट देने के बाद भी व्यापक पैमाने पर अनियमितता की गई है बैठक में एक स्वर में जिले में बनाए गए गौशालाओं के संचालन व निर्माण के मानक व गुणवत्ता की जांच कराने के लिए जिलाधिकारी से प्रतिनिधिमंडल मुलाकात करने का निर्णय लिया है ताकि गोवंश को मिलने वाले बजट का दुरुपयोग रोका जा सके।

मंच के भारत सिंह ने कहा की गौशाला निर्माण में व्यापक पैमाने पर धांधली किया गया है महज खानापूर्ति करके गौशाला के नाम पर सरकारी बजट का बंदरबांट किया जा रहा है जिसकी जांच होना जरूरी है समिति उपाध्यक्ष जितेंद्र प्रताप सिंह ने कहा की सरेआम छुट्टा जानवरों के आतंक से जहां किसानों के फसल सुरक्षित नहीं है वही सड़क पर झुंड में घूमने के कारण आए दिन दुर्घटनाओं से जनमानस चोटिल हो रहे हैं वही असमय ही गोवंश की दुर्घटना में मौत हो रही है बैठक में वार्षिक कार्य वृत्तियों पर विस्तार से बिंदुवार चर्चा की गई है। इस अवसर पर वनहु गोतम दीपक यादव कपिल देव पांडे अन्नू सिंह शब्बीर अंसारी राधेश्याम पांडे सतगुरु प्रसाद यादव कुन्नू यादव अशोक चौरसिया कमल सिंह आदि मंच के पदाधिकारी व स्थानीय लोग मौजूद रहे हैं।

बिजली समस्या को लेकर ग्रामीणों ने विद्युत विभाग में किया प्रदर्शन

बलरामपुर। बिजली की बदहाली को लेकर शिवपुरा तराई क्षेत्र के भूसाएलिया ग्राम पंचायत के ग्रामीणों ने अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड बलरामपुर एवं विद्युत सर्किल अफसर का घेराव किया है। ग्राम प्रधान गिरजा प्रसाद तिवारी के नेतृत्व में 4 दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने भूसेलिया ग्राम में बिजली सप्लाई महाराजगंज तराई में बने विद्युत उपकेंद्र से करने की मांग की है। ग्रामीणों की माने तो इस ग्राम पंचायत में प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के अंतर्गत लगभग 70 कनेक्शन वर्ष 2018 में किया गया था तथा 20 केवी ट्रांसफॉर्मर लगाया गया था जिससे गांव में सप्लाई मात्र मीटर में ही आती थी।

वर्ष 2019 में 68 केवी का ट्रांसफार्मर लगाया गया लेकिन आज तक उससे कनेक्शन ग्रामीणों को नहीं मिल सका है। ग्रामवासी गांव में बदहाल विद्युत आपूर्ति एवं सौभाग्य योजना के तहत निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप गांव में कनेक्शन ना देने की शिकायत क्षेत्र के अवर अभियंता से की है। लेकिन अवर अभियंता क्षेत्र में तो दूर गांव में करीब तैनाती से लेकर अब तक नहीं दिखाई पड़े हैं। जब ग्रामीणों ने उनकी शिकायत अधिशासी अभियंता से की तो उन्होंने कहा कि मामले की जांच कराई जाएगी जल्द ही ग्रामीणों की समस्या को दूर किया जाएगा।

बिजली अधिकारी के घेराव के दौरान संचित राम तिवारी दीपक कुमार भानु प्रकाश राम धीरज चौधरी राजेश तिवारी आनंद कुमार तिवारी अशोक कुमार विजय कुमार श्रवण कुमार राजेंद्र आर्य दुर्गा प्रसाद साह ग्राम बृजेश कुमार कमलेश कुमार शोभाराम आदि ने बिजली विभाग में गांव में बिजली ना आने पर प्रदर्शन करते हुए तत्काल अवर अभियंता को हटाने की मांग करते हुए समस्या के समाधान की मांग की है

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button