BJP का हमला-देश को आग में झोंकने के लिए राहुल ने किस विदेशी एजेंसी का लिया सहारा

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर करारा हमला बोला है. दलित आंदोलन के दौरान हुई हिंसा को लेकर उन्होंने कहा कि देश को आग में झोंकने के लिए राहुल गांधी ने किस विदेशी एजेंसी का सहारा लिया? इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के साथ आने वाले सभी विपक्षी दलों को भी आड़े हाथों लिया.

BJP का हमला-देश को आग में झोंकने के लिए राहुल ने किस विदेशी एजेंसी का लिया सहारा उन्होंने ट्वीट कर कहा कि एनडीए सरकार ने एसटी-एससी (संशोधन) विधेयक-2015 को संसद से पारित कराकर इस कानून को मजबूत बनाया है और दलित व वंचित वर्ग के लोगों का जीवन बेहतर बनाने के लिए कई योजनाएं लागू की है, लेकिन सोनिया गांधी की दावत उड़ाने वाले 20 दलों ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की आड़ में दलितों को गुमराह कर बिहार सहित देश के 12 राज्यों को उत्पात के हवाले कर दिया. इसमें 14 लोगों की जान चली गई.

उन्होंने कहा कि करोड़ों रुपये की राष्ट्रीय सम्पदा को नुकसान पहुंचाकर और बेगुनाहों की जान गवां कर देश ने विपक्षी एकता की पहली किस्त चुकाई है. इस बीच सुशील मोदी ने आरजेडी पर भी सीधा हमला बोला. उन्होंने कहा कि भारत बंद और विरोध प्रदर्शन के दौरान जरूरी सेवाओं को निर्बाध रखने की जिम्मेदारी ली जाती है, लेकिन भारत बंद कराने वालों में शामिल आरजेडी के नेतृत्व वाले विपक्षी दलों के लाठीधारी कार्यकर्ताओं ने अस्पताल और एम्बुलेंस तक को नहीं बख्शा. हाजीपुर में अल्पसंख्यक समुदाय की महिला के एकलौते नवजात शिशु की मौत से इस बंद का सबसे क्रूर चेहरा सामने आया. बिहार में तीन लोगों की मौत बंद के कारण हुई.

उन्होंने लालू यादव को निशाना बनाते हुए कहा कि दलितों के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई मौतों पर माफी मांगने के बजाय लालू प्रसाद ने अपनी ट्विटर-जुबान बंद कर ली. सुशील मोदी ने स्पष्ट किया कि एससी-एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश पारित किया है, उससे केंद्र सरकार का कोई लेना-देना नहीं है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सरकार ने पुनर्विचार याचिका भी दायर की है, लेकिन भारत बंद में हिंसा कराने के लिए यह सुनियोजित अफवाह फैलाई गई कि सुप्रीम कोर्ट एनडीए सरकार के इशारे पर काम कर रहा है.

You may also like

पेट्रोल की बढ़ी कीमतों को लेकर पैदल मार्च कर रहे कांग्रेसी आपस में भिड़े

कानपुर : डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस की