BSP प्रमुख मायावती के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव भी अब किसी सदन के सदस्य नहीं

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती और समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव अब किसी सदन के सदस्य नहीं होंगे। सपा अध्यक्ष का विधान परिषद सदस्य का कार्यकाल शनिवार को समाप्त हो रहा है। 17 वर्ष बाद ऐसा पहली बार होगा जब अखिलेश किसी भी सदन के सदस्य नहीं रहेंगे। उल्लेखनीय है कि बसपा प्रमुख मायावती भी इस समय किसी सदन की सदस्य नहीं हैं। उन्होंने पिछले वर्ष राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के बीच गठबंधन है।BSP प्रमुख मायावती के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव भी अब किसी सदन के सदस्य नहीं

सदन से बाहर गठबंधन की कोशिश

सपा-बसपा दोनों ही दल इन दिनों सदन के बाहर चुनावी तालमेल के गठजोड़ की कोशिश में है। अखिलेश यादव वर्ष 2000 कन्नौज में उपचुनाव में लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए थे। तब से उनका संसद में प्रतिनिधित्व बना रहा। मार्च 2012 में उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद अखिलेश यादव विधानसभा क्षेत्र से विधान परिषद के लिए चुने गए।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने ही फैसले के खिलाफ SC में दी चुनौती

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तराखण्ड में भी सियासी मुलाकातों का दौर जारी, अजय भट्ट से मिले किशोर उपाध्याय

देहरादून: प्रदेश में इन दिनों सत्तापक्ष और विपक्ष