15 अगस्‍त को पीएम Modi के नाम दर्ज होगा ये अनोखा रिकॉर्ड

जुबली न्यूज़ डेस्क
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय राजनीति में एक ऐसे नेता हैं जिनके विरोधी भी उनकी कामयाबी का लोहा मानते हैं। उन्होंने कई ऐसे निर्णय लिए और काम किए जो रिकॉर्ड के तौर पर हमेशा याद रखे जाएंगे।
बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार यानी 13 अगस्‍त को देश के चौथे ऐसे प्रधानमंत्री हो गए हैं जिन्‍होंने सबसे लंबे समय तक पद पर बने रहने का रिकॉर्ड बनाया। इसके साथ ही गैर-कांग्रेसी नेता के रूप में देश में सबसे अधिक समय तक प्रधानमंत्री रहने का उन्‍होंने रिकॉर्ड बनाया। इससे पहले यह रिकॉर्ड बीजेपी के अटल बिहारी वाजपेयी के नाम दर्ज रहा है। अटल जी अपने सभी कार्यकाल को मिलाकर 2,268 दिनों तक प्रधानमंत्री रहे। गुरुवार को पीएम मोदी ने उस रिकॉर्ड को तोड़कर यह उपलब्धि अपने नाम दर्ज की।
पीएम मोदी इस बार लगातार सातवीं बार 15 अगस्‍त को लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराएंगे। गैर-कांग्रेसी नेता के रूप में ये भी अपने आप में अनोखा रिकॉर्ड होगा।
भारतीय राजनीति में सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री बने रहने का रिकॉर्ड पंडित जवाहरलाल नेहरू के नाम दर्ज है। वह देश की आजादी से लेकर अपनी मृत्‍यु तक यानी 27 मई, 1964 तक देश के प्रधानमंत्री रहे। वह कुल मिलाकर 16 साल, 286 दिनों तक प्रधानमंत्री रहे। देश में आजादी से लेकर अब तक कुल 14 प्रधानमंत्री हुए हैं।
यह भी पढ़ें : बीजेपी नेता 5 महीने से क्यों संभाल के रखे थे MP कांग्रेस का ये ट्वीट
पंडित नेहरू के बाद इंदिरा गांधी और डॉ मनमोहन सिंह सर्वाधिक लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे। उसके बाद अभी चौथे स्‍थान पर बीजेपी नेता अटल बिहारी वाजपेयी के नाम यह रिकॉर्ड दर्ज था। वह अपने सभी कार्यकाल को मिलाकर तकरीबन साढ़े छह वर्ष तक प्रधानमंत्री के पद पद आसीन रहे। पीएम मोदी ने अब वाजपेयी का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।
2014 के आम चुनाव में स्‍पष्‍ट बहुमत के साथ पहली बार बीजेपी सत्‍ता में आई। पीएम मोदी ने 26 मई, 2014 को प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। उसके बाद 2019 के चुनाव में लगातार दूसरी बार बीजेपी सत्‍ता में आई और पीएम मोदी फिर से देश के प्रधानमंत्री बने। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री बनने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्‍यमंत्री रहे। गुजरात के सबसे लंबे समय तक मुख्‍यमंत्री रहने का रिकॉर्ड भी उनके नाम दर्ज है।
यह भी पढ़ें : अशोक गहलोत को अब किस बात का डर
यह भी पढ़ें : झारखंड के शिक्षा मंत्री ने पढ़ाई करने का फैसला क्यों लिया? 

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button