सोनिया की नजर में कैसे राजनेता थे राजीव गांधी

जुबिली न्यूज डेस्क
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की आज पुण्यतिथि है। पूरा देश उनको याद कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।
कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी आज अपने पिता के याद करते हुए कहा कि, ‘मैं उन्हें अपने पिता के रूप में पाकर खुद को बहुत भाग्यशाली और गौरवान्वित महसूस करता हूं। हम उन्हें आज और हर दिन याद करते हैं।’

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी अपनी सौम्यता की वजह से जाने जाते थे। उनकी सौम्यता सभी को आकर्षित करती थी। ऐसा ही कुछ राजीव गांधी की पत्नी व कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी पिछले साल उनकी पुण्यतिथि पर याद करते हुए कहा था।
सोनिया गांधी ने कहा था कि सौम्यता, सहजता और सरलता इन तीनों के सम्मिश्रण थे राजीव गांधी। जो भी राजीव गांधी से मिला वह उनके इन तीनों गुणों का मुरीद हो गया। आज भी राजीव के जानने वाले लोग उनकी की बात करते है तो सबसे पहले उनके इन्हीं गुणों को याद करते हैं। राजीव गांधी में बहुत सारी खूबिया थी।
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में सोनिया गांधी ने राजीव के बारे में खूब बातें की थी। वो कैसे राजनेता थे, इसके बारे में सोनिया ने ज्यादा बताया था।
ये भी पढ़े : कांग्रेस के नेतृत्व संभालने को लेकर प्रियंका गांधी ने क्या कहा?
ये भी पढ़े : यूपी के इस शहर में खुला स्कूल
ये भी पढ़े :PM Cares Fund : सरकारी कंपनियों से आया दान का बड़ा हिस्सा
ये भी पढ़े :  EDITORs TALK : अपराधी मस्त, पुलिस बेकाबू

राजनीतिक हालात पर चिंता जताते हुए सोनिया गांधी ने कहा था कि 1984 में राजीव गांधी को विशाल बहुमत मिला था, लेकिन उन्होंने इस ताकत का इस्तेमाल लोगों में डर का माहौल बनाने या डराने-धमकाने , संस्थाओं की स्वतंत्रता को नष्ट करने के लिए नहीं किया, असहमति और मुख्तलिफ नजरियों को कुचलने के लिए नहीं किया, लोकतांत्रिक परंपरा और जीवनशैली के लिए खतरा पैदा करने के लिए नहीं किया।
सोनिया ने कहा कि 1989 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस दोबारा पूरे बहुमत से अकेले जीत कर नहीं आ सकी, तो राजीव जी ने गरिमा और विनम्रता के साथ जनादेश स्वीकार किया।
उन्होंने कहा था कि आज की पीढ़ी को मैं बताना चाहती हूं कि सबसे बड़ा राजनीतिक दल होने के बावजूद राजीव जी ने सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया। क्यों नहीं किया ! क्योंकि इसके लिए उनके आंतरिक नैतिक बल, उनकी उदारता और ईमानदारी ने उन्हें ऐसा करने नहीं दिया।’
ये भी पढ़े :  अब किसका निजीकरण करने की तैयारी में है मोदी सरकार
ये भी पढ़े :  बैंकों ने कितना कर्ज अपने बही-खाते से हटाया?

राजीव को याद करते हुए सोनिया ने कहा था कि ‘आज के दौर में ये कोई नहीं कर सकता है जैसा राजीव जी ने किया, राहुल (अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर) ने किया। राजीव का ही प्रयास था कि देश के 18 साल के युवाओं को मतदान का अधिकार मिला। राजीव की प्रतिबद्धता थी कि पंचायतों और नगर निकायों को संवैधानिक दर्जा मिले।
सोनिया ने कहा था कि राजीव गांधी ने कंप्यूटर और दूरसंचार क्रांति का संकल्प लिया और छोटे से समय में उसे पूरा करके दिखाया। राजीव गांधी मजबूत, सुरक्षित और आत्मनिर्भर भारत बनाने का संकल्प रखते थे। राजीव जी ने प्रधानमंत्री के तौर पर देश के कोने-कोने तक जाकर यह संदेश दिया कि भारत की विविधता का उत्सव मनाकर ही देश को मजबूत बना सकते हैं।
ये भी पढ़े :   तालाबंदी में कितने लोग हुए बेरोजगार?
ये भी पढ़े :  कोरोना के बाद भारतीयों की मुश्किलें बढ़ायेगा ये बीमारी

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button