सुशांत के परिवार को सबक सिखाने की धमकी कौन दे रहा है ?

जुबली न्यूज़ डेस्क
एक्टर सुशांत सिंह राजपूत केस में परिवार की ओर से बयान जारी हुआ है। परिवार का आरोप है कि सुशांत के परिवार, जिसमें चार बहनें और एक बूढ़ा बाप है, इन सबको सबक सिखाने की धमकी मिल रही है।
एक-एक करके सबके चरित्र पर कीचड़ उछाला जा रहा है। इसके अलावा सुशांत के परिवार ने कई सवाल पूछे हैं। सुशांत के परिवार ने 9 पेज की चिट्ठी जारी की है। और बताया गया कि सुशांत के परिवार के होने का मतलब क्या है।
सुशांत के परिवार ने पत्र में लिखी ये बात
सुशांत के परिवार ने फिराक जलालपुरी के एक शेर से पत्र की शुरुआत की और लिखा, ‘तू इधर-उधर की ना बात कर ये बता कि काफिला क्यों लुटा, मुझे रहजनों से गिला नहीं तेरी रहबरी का सवाल है।’
परिवार ने आगे लिखा, ‘कुछ साल पहले की ही बात है। ना कोई सुशांत को जानता था, ना उसके परिवार को। आज सुशांत की हत्या को लेकर करोड़ों लोग व्यथित हैं और सुशांत के परिवार पर चौतरफा हमला हो रहा है। अखबार पर अपना नाम चमकाने की गरज से कई फर्जी दोस्त-भाई-मामा बन अपनी-अपनी हांक रहे हैं। ऐसे में बताना जरूरी हो गया है कि आखिर ‘सुशांत का परिवार’ होने का मतलब क्या है?
सुशांत के माता-पिता कमाकर खाने वाले लोग थे। उनके हंसते खेलते पांच बच्चे थे। उनकी परवरिश अच्छी हो सके इसलिए नब्बे के दशक में गांव से शहर आ गए। रोटी कमाने और बच्चों को पढ़ाने में जुट गए। एक आम भारतीय माता-पिता की तरह उन्होंने मुश्किलें खुद झेली। अपने बच्चों को किसी बात की कमी नहीं होने दी। हौसले वाले थे तो कभी उनके सपनों पर पहरा नहीं लगाया। कहते थे कि जो कुछ दो हाथ-पैर का आदमी कर सकता है, तुम भी कर सकते हो।’
सुशांत के पिता ने अपने पत्र में परिवार के बारे में बताया, ‘पहली बेटी में जादू था। कोई आया और चुपके से उसे पारियों के देश ले गया। दूसरी राष्ट्रीय टीम के लिए क्रिकेट खेली। तीसरे ने कानून की पढ़ाई की तो चौथे ने फैशन डिजाइन में डिप्लोमा किया। पांचवा सुशांत था। ऐसा, जिसके लिए सारी माएं मन्नत मांगती हैं। पूरी उमर, सुशांत के परिवार ने ना कभी किसी से कुछ लिया, ना कभी किसी का आहत किया।
पिता ने मदद की अपील करते हुए आगे लिखा, ‘मदद करें। अग्रजों के वारिश हैं, एक अदना हिंदुस्तानी मरे, इन्हें क्यों परवाह हो? चार महीने बाद सुशांत के परिवार का डर सही साबित होता है। अंग्रेजों के दूसरे वारिस मिलते हैं। दिव्यचक्षु से देखकर बता देते हैं कि ये तो जी ऐसे हुआ है। व्यावहारिक आदमी हैं। पीड़ित से कुछ मिलना नहीं, सो मुलजिम की तरफ हो लेते हैं।’
सुशांत के पिता अपनी बात को खत्म करते हुए आगे लिखते हैं, ‘अंग्रेजों के एक और बड़े वारिश तो जालियावाला-फेम जनरल डायर को भी मात दे देते हैं। सुशांत के परिवार को कहते हैं कि तुम्हारा बच्चा पागल था, सुसाइड कर सकता था।’
बता दें कि सुशांत केस में मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में रिया चक्रवर्ती की याचिका (बिहार से मुंबई केस ट्रांसफर करने) पर मंगलवार को सुनवाई हुई। जस्टिस ह्रषिकेश रॉय की बेंच सुनवाई कर रही थी। रिया चक्रवर्ती के सुशांत केस को पटना से मुंबई ट्रांसफर कराने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है।
यह भी पढ़ें : आखिर कांग्रेस के लिए पायलट इतने महत्वपूर्ण क्यों हैं?
यह भी पढ़ें : यूपी का मल्लाह समुदाय किसकी राजनीतिक नैया पार लगाएगा?

Loading...
loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...