योगी बोले- कान खोलकर सुन लें अफसर, कहीं भी कभी भी छापा मार दूंगा

सूबे की कमान संभालने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मिशन बुंदेलखंड दौरे की शुरुआत झाँसी से की। गुरुवार को उन्होंने करीब साढ़े पाँच घंटे झाँसी में गुजारे।इस दौरान झाँसी और चित्रकूट मंडल की कानून व्यवस्था और विकास कार्यों की समीक्षा की तो कई परियोजनाओं का निरीक्षण भी किया। वह पार्टी के विधायकों और पदाधिकारियों को भी नसीहत देने से नहीं चूके।

बड़ी खबर: CM योगी ने अखिलेश के ड्रीम प्रोजेक्ट की जांच के आदेश दिए, 10 जिलों के DM से मांगी रिपोर्ट

विकास भवन सभागार में विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए कि अधिकारी कार्यालय में बैठकर जनता की समस्याएं सुनें और उनका निस्तारण कर नई कार्य संस्कृति को जन्म दें।  उन्होंने कहा कि अफसर ये ध्यान रखें कि छापे सिर्फ लखनऊ या बड़ी जगहों पर ही नहीं, प्रदेश में  कहीं भी पड़ सकता है। 

किसी भी दशा में ना हो पेयजल की समस्या : 

पेयजल की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि संपूर्ण बुंदेलखंड में पेयजल समस्या किसी भी दशा में नहीं होना चाहिए। जो पेयजल परियोजनाएं निर्माणाधीन हैं, उन्हें प्रत्येक दशा में अप्रैल अंत तक पूर्ण कर लिया जाए।

नए हैंडपंप और रीबोर हैंडपंप को अतिशीघ्र ठीक करने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जो पाइप पेयजल परियोजनाएं आशिंक दोष के कारण बंद हैं उन्हें तत्काल ठीक करा लिया जाए। उन्होंने उपलब्ध धनराशि के सापेक्ष कार्य में गति लाने के लिए ऐसे ग्राम चिह्नित करने को कहा जहां टैंकर द्वारा जलापूर्ति की जाना है।

मनरेगा से कराएं ज्यादा काम :

मुख्यमंत्री ने मनरेगा से अधिक से अधिक काम कराने के निर्देश देते हुए कूप गहरीकरण, नए कूप बनाने और जल संरक्षण को अभियान के रूप में करने पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि ज़्यादा से ज़्यादा तालाब खुदवाए जाएं और विगत मंडलायुक्त तथा जिलाधिकारी विभिन्न विभागों द्वारा तीन वर्ष में जो तालाब खोदे गए हैं उनका टीम गठित कर सत्यापन कर लिया जाए। जो काम अधूरे हैं उन्हें बरसात से पहले पूरा कर लिया जाए।

लाइनलॉस रोकने को बनाएं कार्ययोजना : 

मुख्यमंत्री ने विद्युत विभाग की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि विद्युत चोरी रोकने के लिए अभियान चलाया जाए और लाइनलॉस रोकने के लिए कार्ययोजना तैयार की जाए। उन्होंने भ्रमण के दौरान विद्युत संयोजन न मिलने की शिकायत का जिक्र करते हुए कहा कि इसके लिए शिविर लगाकर बीपीएल लाभार्थियों को नि:शुल्क संयोजन दिए जाएं और सरचार्ज माफ करते हुए एक मुश्त बिजली का बिल जमा करने का भी अभियान चलाने के साथ घर-घर बिजली उपलब्ध कराई जाए।

loading...
=>

You may also like

दीपावली से पहले रेलवे कर्मचारियों को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, मिलेगा…!

नई दिल्ली। दिवाली के पहले केंद्र सरकार ने