यदि रास्ते में फंसे हैं तो इस नंबर पर कॉल करें, योगी सरकार करेगी मदद

लखनऊ। कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए पूरे देश में चल रहे लॉकडाउन के दौरान यदि कोई व्यक्ति उत्तर प्रदेश में कहीं भी रास्ते में फंसा हो तो वह तत्काल 112 पर कॉल करे अथवा 7570000100 नंबर पर वाट्सऐप करें। प्रदेश की योगी सरकार उसकी मदद करेगी। प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) असीम अरुण के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आकस्मिक सेवा 112 ने लॉकडाउन के दौरान लोगों की हर संभव मदद का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के चलते इस समय तमाम लोग सड़कों अथवा हाईवे पर पैदल ही यात्रा कर रहे हैं। ऐसे में उनकी मदद जरुरी है।
एडीजी ने कहा कि यदि कोई किसी को कहीं फंसा देख रहा है तो वह भी 112 नंबर पर कॉल कर सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि इस समय 112 पर कॉल का अत्यधिक दबाव है, ऐसे में 7570000100 नंबर पर वाट्सऐप करके सूचना देंगे तो आसानी होगी। वाट्सऐप पर सबसे पहले अपना नाम और मोबाइल नंबर लिखना होगा। इसके बाद कहां फंसे हैं, कहां से आएं हैं और कहां जाना है, इसकी सूचना दें। उन्होंने कहा कि सूचना मिलते ही पुलिस हर संभव मदद करेगी।
गौरतलब है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में लागू किये गये लॉकडाउन के बाद दिल्ली, नोएडा समेत देश के कई महानगरों में रहने वाले प्रवासी मजदूरों और कामगारों का पलायन शुरु हो गया है। ये सब पैदल अथवा अन्य जुगाड़ से किसी तरह अपने घरों की ओर लौट रहे हैं। समूहों में चल रहे इन मजदूरों से कोरोना के संक्रमण का खतरा भांपते हुए केंद्र सरकार ने शुक्रवार को देश के सभी राज्य सरकारों को एडवाइजरी जारी की। इसके माध्यम से इन मजदूरों और कामगारों के पलायन को रोकने के लिए कहा गया है।
केंद्र सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन मजदूरों की मदद के लिए तत्काल अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि प्रदेश में आने वाले प्रवासी मजदूरों को खाना-पीना और रहने की व्यवस्था की जाए।
मुख्यमंत्री योगी ने हरियाणा, महाराष्ट्र और उत्तराखंड समेत अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध किया है कि उत्तर प्रदेश के लोगों के खाने और रहने की व्यवस्था वहीं करवा दें, ताकि वे सभी लोग यहां आने के बजाए वहीं पड़े रहें। उन्होंने यह भी कहा है कि इस व्यवस्था में जो भी खर्च आएगा उसका वहन उत्तर प्रदेश सरकार करेगी। इस कार्य को गति हेतु योगी ने तत्काल 12 राज्यों के लिए नोडल अधिकारी भी तैनात कर दिया। इन नोडल अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि वे अपने प्रभार वाले राज्य के मजदूरों व अन्य नागरिकों की सभी प्रकार की समस्याओं का समाधान करेंगे। मुख्यमंत्री ने पैदल ही पलायन कर रहे मजदूरों से अपील की है कि वे ऐसा न करें। इससे कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button