मूवी मसाला-आइटम सॉन्ग या बड़ा रोल, क्या है सनी लियोन से बाहुबली से नाता

शाहरुख खान की फिल्म ‘रईस’ में ‘लैला मैं लैला’ आइटम सॉन्ग करने के बाद एक्ट्रेस सनी लियोन को बॉलीवुड से कई ऑफर मिल रहे हैं. सनी ने इंडिया टुडे-आज तक से बातचीत के दौरान सनी लियोन ने कंडोम के ऐड से लेकर बाहुबली जैसी फिल्मों में काम करने की अपनी ख्वाहिश जताई. पेश है उनसे बातचीत के कुछ अंश:

‘कटप्पा’ से क्यों नाराज है ये राज्य ‘बाहुबली 2’ की रिलीज का किया विरोध

पीएम मोदी का सबसे बड़ा फैन आया सोनू के साथ, बोला – ‘तुझमें है दम, जय हो सोनू निगम’

शाहरुख खान के साथ फिल्म ‘रईस’ में आइटम नंबर करने के बाद किस तरह से आप करियर में बदलाव आया है और किस किस्म के ऑफर्स मिल रहे हैं?

सनी लियोन: ऑफर्स या काम की कमी कभी भी नहीं थी लेकिन बड़े और अच्छे काम की तलाश हमेशा रही और ‘लैला’ गाने के बाद और शाहरुख जैसे सुपर स्टार के साथ काम करने के बाद अच्छे काम की कमी भी पूरी हो गई है. जब आप सही लोगों के साथ जुड़ते हैं, फिर चाहे वो एक्टर हो, प्रोडक्शन हाउस या निर्देशक, तो चीजें अच्छी ही होती हैं. ऐसा नहीं है कि आपको पता हो ये हिट ही होगा लेकिन सही की उम्मीद बढ़ जाती है. मुझे अच्छे रोल्स करने हैं, जरूरी नहीं है कि लंबे पेज के डायलॉग्स हों, रोल छोटा भी है तो कोई फर्क नहीं पड़ता जब तक वो कहानी में अपना असर छोड़े. पैसे से ज्यादा रोल को तवज्जो देना चाहती हूं अब.

आज सिर्फ हिंदी सिनेमा ही नहीं बल्कि रीजनल सिनेमा में भी बहुत अच्छा काम हो रहा है. जैसे बाहुबली 2 की अभी से इतनी उत्सुकता है क्या आप ऐसी या साउथ की फिल्मों से जुड़ना चाहेंगी?

सनी लियोन: जरूर जुड़ना चाहूंगी. मेरे लिए अच्छी फिल्म में काम करना जरूरी है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता वो किस जुबान में बन रही है. इंग्लिश, हिंदी, पंजाबी, तमिल, तेलुगु या चाइनीज- हर भाषा में काम करने में दिलचस्पी है. शर्त यही है कि प्रोजेक्ट सही होना चाहिए. बहुबली बेहतरीन फिल्म है और यही वजह है कि लोग दूसरे पार्ट का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं और मैं भी बहुबली 2 जरूर देखूंगी और जानना चाहूंगी कि कट्टपा ने बहुबली को क्यों मारा.

हाल में कुछ लोगों ने ऐतराज जताया कि कंडोम का ऐड जो आपने किया था उसके होर्डिंग और ऐड बंद होने चाहिए. आपकी प्रतिक्रिया? 

सनी लियोन: इंडिया की सबसे खूबसूरत बात है कि यह एक डेमोक्रेटिक देश है. हर किसी को अपनी बात कहने का हक है और फ्रीडम ऑफ स्पीच में मेरा पूरा विश्वास है. ये गवरमेंट को तय करना होगा क्या दिखाना चाहिए और क्या नहीं. मैं बिलकुल भी नहीं बोलूंगी किस को क्या बोलना चाहिए और क्या नहीं.

=>
loading...
=>
loading...