मायावती ने क्यों कहा- कांग्रेस ने बार-बार धोखा ही दिया

जुबिली न्‍यूज डेस्‍क
राजस्थान के सियासी दंगल के बीच में बहुजन समाज पार्टी भी एक किरदार के रूप में सामने आई है। बहुजन समाज पार्टी के 6 विधायकों ने कांग्रेस में विलय कर लिया था, जिसपर अब बसपा प्रमुख मायावती आगबबूला हैं।
मंगलवार को मायावती ने कहा कि कांग्रेस की ओर से कानून का उल्लंघन कर हमारे विधायकों को अपनी ओर किया गया, हम इस मामले को सुप्रीम कोर्ट तक ले जाएंगे।
मायावती ने कहा कि अगर जरूरत पड़ती है तो वो ये मामला सुप्रीम कोर्ट तक ले जाएंगे, हम गहलोत को सही मौके पर सबक सिखाने का इंतजार कर रहे थे।

यह भी पढ़े: कानून व्यवस्था पर घिरी यूपी सरकार, कांग्रेस ने बताया जंगलराज
मायावती ने कहा कि दुख की बात है कि गहलोत ने अपने मुख्यमंत्री बनने के बाद अपनी बदनियत से BSP को राजस्थान में गंभीर नुकसान पहुंचाने के लिए हमारे 6 MLAs को असंवैधानिक तरीक से कांग्रेस में विलय करने की गैर कानूनी कार्यवाही की है। मायावती ने कहा कि यही गलत काम उन्होंने पिछले कार्यकाल में भी किया था।
यूपी की पूर्व सीएम बोलीं कि कांग्रेस का ये कार्य संविधान की 10वीं अनुसूचि के खिलाफ है इसलिए BSP के द्वारा 6 विधायकों को व्हिप जारी कर निर्देशित किया गया है कि ये सदन में कांग्रेस के खिलाफ ही मत डालेंगे. बसपा ने ये निर्णय कांग्रेस के द्वारा बार-बार धोखा दिए जाने के कारण ही लिया है।
मायावती ने राजस्थान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इस कारण से इनकी (कांग्रेस) अब सरकार रहती है या नहीं रहती है इसका दोष अब पूर्ण रूप से कांग्रेस और उनके मुख्यमंत्री गहलोत का ही होगा।
 यह भी पढ़े: राजस्थान: राज्यपाल के सवालों को लेकर कांग्रेस में मतभेद
आपको बता दें कि बहुजन समाज पार्टी के विधायकों के विलय का मसला हाईकोर्ट भी पहुंचा था, जहां पर बीजेपी विधायक ने एक याचिका लगाई थी और बसपा भी उसमें पार्टी बन गई थी।
हालांकि, अदालत ने ये याचिका खारिज कर दी। अब मंगलवार को एक नई याचिका दायर की गई है। बसपा ने बीते दिनों विधायकों को व्हिप जारी कर कांग्रेस के खिलाफ वोट डालने को कहा था, हालांकि विधायकों का कहना है कि अब वो कांग्रेस के सदस्य हैं और अशोक गहलोत के साथ ही रहेंगे।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button