बैंकों ने कितना कर्ज अपने बही-खाते से हटाया?

पहली तिमाही में देश के 10 बैंकों ने राइट ऑफ किए 19 हजार करोड़ रुपये के लोन
जुबिली न्यूज डेस्क
देश के बैंक आम आदमी को थोड़े से कर्ज के लिए कितना दौड़ाते हैं किसी से छिपा नहीं है, जबकि कर्जदार व्यवसायियों को बैंक खुशी-खुशी लोन देते रहते हैं। इसका नजीता है कि कोई 9 हजार करोड़ लोन लेकर फरार है तो कोई 13 हजार करोड़ लोन लेकर फरार है। इसका नतीजा यह है कि बैंकिंग सेक्टर में एनपीए का संकट कितना बढ़ता जा रहा है।
फिलहाल बैंकों को लेकर नई खबर यह है कि देश के 10 बड़े बैंकों ने मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 19,000 करोड़ रुपये के कर्जों को राइट ऑफ कर दिया है। जबकि यह राइट ऑफ बीते साल की इसी तिमाही के मुकाबले करीब 10 फीसदी ज्यादा है।
ये भी पढ़े : यूपी के इस शहर में खुला स्कूल
ये भी पढ़े :PM Cares Fund : सरकारी कंपनियों से आया दान का बड़ा हिस्सा
ये भी पढ़े :  EDITORs TALK : अपराधी मस्त, पुलिस बेकाबू

साल 2019 की जून तिमाही में बैंकों ने करीब 17,000 करोड़ रुपये के लोन को राइट ऑफ कर दिया था। इतने बड़े पैमाने पर लोन का राइट ऑफ का किए जाने से पता चलता है कि बैंकिंग सेक्टर में एनपीए का संकट कितना बढ़ गया है।
देश के जिन 10 बड़े बैंकों ने राइट ऑफ किया है उनमें सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने 4,630 करोड़ रुपये को लोन जून तिमाही में राइट ऑफ किए हैं। इसके अलावा बैंक ऑफ इंडिया ने 3,505 करोड़ रुपये के लोन बही-खाते से हटा दिए हैं।
इसी कड़ी में कैनरा बैंक ने इस अवधि में 3,216 करोड़ रुपये के लोन राइट ऑफ किए हैं। यही नहीं निजी सेक्टर के दिग्गज एक्सिस बैंक ने भी 2,284 करोड़ रुपये के लोन को राइट ऑफ कर दिया है।
आईसीआईसीआई बैंक ने 1,426 करोड़ रुपये के लोन अपनी बुक्स से हटा दिए हैं तो इंड्सइंड बैंक ने भी 1,250 करोड़ रुपये के कर्ज को राइट ऑफ कर दिया है।
वित्तीय वर्ष 2019 में देश के बैंकों ने कुल 2.13 लाख करोड़ रुपये के कर्जों को राइट ऑफ किया था। यह ट्रेंड 2020 में कम होने की बजाय बढ़ता ही गया और राइट ऑफ का आंकड़ा 2.29 लाख करोड़ रुपये के लेवल पर पहुंच गया।
ये भी पढ़े : PM Cares Fund : सरकारी कंपनियों से आया दान का बड़ा हिस्सा
ये भी पढ़े : कोरोना के बाद भारतीयों की मुश्किलें बढ़ायेगा ये बीमारी
ये भी पढ़े :  शिवपाल के सपा प्रेम पर क्यों खामोश है पार्टी

 
 
देश के 30 बैंकों ने एनपीए के आंकड़े को अपने बही-खाते से हटाने के मकसद से यह फैसला लिया था।
भले ही बैंकों ने इन कर्जों को अपने बही-खाते से हटा दिया हो, लेकिन इसके बाद भी शाखाओं के स्तर पर कर्जों की वसूली के प्रयास किए जा रहे हैं।
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर मौजूद डाटा के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में राइट ऑफ में 10 पर्सेंट का इजाफा हुआ है। बैंकिंग सेक्टर के जानकारों का कहना है कि बैंकों की वित्तीय स्थिति ऐसी नहीं है कि वे एनपीए में और इजाफे को बर्दाश्त कर पाएं।
मालूत हो कि कोरोना संकट के बीच एनपीए का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में बैंक अपनी बुक्स से कर्जों को राइट ऑफ कर रहे हैं तो ताकि बही-खाते को साफ सुथरा रख सकें।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button