पीएम मोदी आज करेंगे प्रयागराज का दौरा, कुंभ से जुड़ी विकास परियोजनाओं का लेंगे जायजा

तीन राज्यों की सत्ता छिन जाने के बाद निराश भाजपा को सुप्रीम कोर्ट द्वारा राफेल डील पर दी गई क्लीन चिट ने संजीवनी देने का काम किया है। मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हार का गम भुलाकर रविवार को संगम नगरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस पर हमला बोल सकते हैं। प्रयागराज नामकरण के बाद पहली बार आ रहे पीएम मोदी यूं तो कुंभ से जुड़े कार्यों का जायजा एवं लोकार्पण करने के लिए यहां आ रहे हैं, लेकिन सियासी गलियारे में अंदावा में आयोजित जनसभा एक तरह से लोकसभा चुनाव के अभियान की शुरुआत मानी जा रही है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए अंदावा स्थित संत निरंकारी मैदान कोई नया नहीं है। वर्ष 2017 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान भी वे यहां एक जनसभा को संबोधित कर चुके हैं। फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में भी पार्टी को करारी हार मिली थी। लोकसभा चुनाव भी निकट है। शायद इसी वजह से इस जनसभा में प्रयागराज के साथ ही प्रतापगढ़, कौशांबी, भदोही से भी हजारों कार्यकर्ताओं को बुलाया गया है। परदे के पीछे से तो इन किलों पर भाजपा का झंडा फहराने की रणनीति पर काम पहले ही शुरू हो गया है। अब पीएम मोदी ने इस रणनीति को जमीन पर उतारने की जिम्मेदारी अपने हाथ में ले ली है। 

प्रयागराज आने के पूर्व वह सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र में भी एक सभा करेंगे। ऐसे में पीएम उक्त सभा से ही राफेल डील पर कांग्रेस द्वारा किए गए शोर पर राहुल गांधी को करारा जवाब दे सकते हैं। अंदावा में भी इसकी पुनरावृत्ति होनी तय है। साथ ही प्रयागराज में कुंभ के मद्देनजर कई कार्यों का लोकार्पण करने के साथ ही सियासी चौसर पर हिंदुत्व के सरोकारों के समीकरण को भी सजा सकते हैं। राजनीति में एक कहावत है कि यूपी से ही दिल्ली की कुर्सी तय होती है। इस वजह से पीएम अपने विकास के एजेंडे के सहारे विपक्षी सूरमाओं पर निशाना साधने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। 

केशव और नंदी में ताकत दिखाने की मची होड़
पीएम की जनसभा में भीड़ जुटाने की मुख्य रूप से डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता को जिम्मेदारी मिली है। दोनों ही नेता प्रयागराज में अपना डेरा जमा चुके हैं। दरअसल अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपाइयों में इस बात की चर्चा चल रही है कि फूलपुर में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के पुत्र योगेश मौर्य एवं प्रयागराज में कैबिनेट मंत्री नंदी की पत्नी एवं मेयर अभिलाषा गुप्ता को प्रत्याशी बनाया जा सकता है। 

चुनाव की वजह से ही पीएम की रैली में सर्वाधिक भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी इन्हीं दोनों नेताओं को मिली है। शायद इसी वजह से डिप्टी सीएम पिछले दो रोज से लगातार पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रैली को सफल बनाने की योजना बना रहे हैं। उधर नंदी समर्थकों ने रैली की सफलता के लिए सोशल मीडिया में मुहिम छेड़ रखी है। इस बीच कैबिनेट मंत्री नंदी ने शनिवार को प्रयागराज, फूलपुर, भदोही लोकसभा के व्यापारिक संगठनों के साथ बैठक कर रैली की सफलता की योजना बनाई। मेयर अभिलाषा गुप्ता ने भी नगर निगम के पार्षदों के साथ तैयारियों की बैठक की।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com