न्यूजीलैंड की PM को कैफे में क्यों नहीं मिली एंट्री

न्यूजीलैंड में कोरोना के 1,149 मामले हैं
21 लोगों की मौत हो चुकी है
स्पेशल डेस्क
पूरे विश्व में कोरोना वायरस लगातार अपनी जड़े मजबूत कर रहा है। इस वजह से विश्व के कई देशों में इन दिनों लॉकडाउन लगा हुआ है। हालांकि कुछ देशों में समय-समय पर लॉकडाउन में थोड़ी-थोड़ी छूट भी देखने को मिल रही है।
न्यूजीलैंड भी उन गिने-चुने देशों में शुमार है जिसने कोरोना को काबू किया है। इस वजह से न्यूजीलैंड में कोरोना महामारी को नियंत्रित करने को लेकर प्रधानमंत्री जेसिंडा ऑर्डन की तारीफ हर कोई कर रहा है।
न्यूजीलैंड ने कोरोना से बचने के लिए लॉकडाउन लगा हुआ है लेकिन वहां पर थोड़ी ढील दी गई है। दो दिन पहले न्यूजीलैंड ने लॉकडाउन छूट देते हुए होटल और कैफे खोलने के लिए अनुमति दी है लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखनेेे के लिए भी लोगों से कहा गया है।
यह भी पढ़ें : कोरोना से जंग में न्यूजीलैंड कितना सफल
यह भी पढ़ें : कोरोना महामारी के बीच न्यूजीलैंड में होगा चुनाव
यह भी पढ़ें : क्या यूरोपीय संघ ने चीन के दबाव में बदली आलोचना वाली रिपोर्ट?
इसी के तहत वहां की प्रधानमंत्री जेसिंडा ऑर्डन शनिवार को अपने मंगेतर के साथ कैफे हाउस पहुंचीं थी लेकिन उनको तब निराशा हाथ लगी जब कैफे के मैनेजर ने उनको एंट्री नहीं दी। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक पीएम और उनके मंगेतर को कैफे मैनेजर अंदर नहीं जाने दिया और कहा कि बैठने की जगह नहीं है।

इसके साथ मैनेजर ने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का हवाला भी दिया। हालांकि कैफ में काफी लोग थे और कोई भी टेबल खाली नहीं था। खबर के मुताबिक कैफे के मैनेजर ने पीएम को कहा कि जैसे ही कोई सीट खाली होगी, उन्हें ऑफर कर दी जाएगी।
रिपोर्ट के मुताबिक करीब 45 मिनट के इंतजार के बाद पीएम के बैठने के लिए कैफे में व्यवस्था हो गई लेकिन कुछ मिनटों बाद जब टेबल खाली हो गई तो कैफे हाउस का एक कर्मचारी दौड़ते हुए बाहर तक आया, लेकिन तब तक प्रधानमंत्री और उनके मंगेतर जा चुके थे। ऑर्डन के मंगेतर गेफोर्ड ने इसके लिए खुद को जिम्मेदार ठहराया।
उधर इस पूरी घटना पर कैफे पर किसी तरह का कोई एक्शन नहीं लिया गया है बल्कि पीएम की तरफ से इस पूरे मामले पर एक सफाई भी दी गई है। पीएम की तरफ से एक बयान जारी किया गया और बताया कि गया यह उनकी गलती है क्योंकि वे कैफे के अंदर रिजर्वेशन कराना भूल गई थीं।
यह भी पढ़ें : तो क्या चीन की लैब से आया है कोविड 19? 
यह भी पढ़ें :    चीन के वुहान में फिर लौटा कोरोना वायरस
यह भी पढ़ें :   पस्त अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए चाहिए 4.5 लाख करोड़

उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि मुझे इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए, क्योंकि मैं अन्य स्थान पर बुकिंग की व्यवस्था नहीं कर सका। जब कोई जगह खाली होती है तो उसे पाने की कोशिश करना बहुत अच्छा लगता है। प्रधानमंत्री की प्रेस सेक्रेटरी ने कहा कि प्रतिबंधों के चलते पीएम को कैफे के बाहर इंतजार करना पड़ा।
यह भी पढ़ें : …तो क्या सऊदी अरब बड़े संकट से बच गया?
यह भी पढ़ें :ब्राजील में कोरोना से सैकड़ों की मौत पर राष्ट्रपति ने कहा-तो क्या?
पीएम ने इस दौरान एक आम आदमी की तरह इंतजार किया है। बता दें इस समय कोरोना वायरस की चपेट में पूरा विश्व है। जहां तक न्यूजीलैंड की बात है तो वहां पर कोरोना के 1,149 मामले हैं जबकि 21 लोगों ने कोरोना की वजह से दम तोड़ दिया है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button