नूर खूबसूरत लेकिन खतरनाक, इस जासूस से हिटलर भी खाता था खौफ

भारत और पाकिस्तान के बीच एक बार फिर रिश्ते तल्ख हो गए हैं. जासूसी का आरोप लगाकर पाकिस्तान ने एक पूर्व भारतीय नौसैनिक कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाई है.

J&K: में युवाओं ने सुरक्षाबलों पर फिर किया पथराव, जताया विरोध

इसके साथ ही पाकिस्तानियों का आरोप है कि उनके आर्मी अफसर ले. कर्नल मो. हबीब को भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने हिरासत में रखा है. बीते दिनों नेपाल में हबीब का गायब हो गए हैं. उन पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआईस के लिए जासूसी का आरोप है. आदिकाल से जासूसी होती रही है. इस काम में महिलाओं को सबसे परफेक्ट माना जाता है.

दुनिया भर में जासूसी के इतिहास में नीदरलैंड की माता हारी की नाम सबसे ज्यादा मशहूर है, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि भारतीय मूल की नूर इनायत खान उनसे भी ज्यादा जांबाज जासूस थी. आलम ये था कि उनके नाम से दुनिया का सबसे बड़ा तानाशाह हिटलर भी खौफ खाता था. नूर मैसूर के महाराजा टीपू सुल्तान की वंशज थीं. नूर की जिंदगी पर एक किताब भी लिखी गई है, जिसका नाम ‘द स्पाई प्रिसेंज: द लाइफ़ ऑफ़ नूर इनायत ख़ान’ है. इसको श्राबणी बसु ने लिखा है. इसमें नूर के जाबांजी के कई किस्से लिखे हुए हैं.

पीएम मोदी और ऑस्ट्रेलिया के पीएम ने दिल्ली मेट्रो में किया सफर

हिंदुस्तानी थे पिता, मां अमेरिकी

नूर खान का जन्म 1914 में मॉस्को में हुआ था. उनकी परवरिश फ्रांस में हुई, लेकिन वह ब्रिटेन में रहीं. उनके पिता हिंदुस्तान से थे और सूफी मत को मानते थे. उनकी मां अमरीकन थीं. दूसरे विश्व युद्ध के समय से परिवार पेरिस में रहता था. जर्मनी के हमले के बाद उन लोगों ने देश छोड़ने का फैसला किया. नूर एक वालंटियर के तौर पर ब्रितानी सेना में शामिल हो गईं. वह उस देश की मदद करना चाहती थीं, जिसने उन्हें अपनाया था. उनका मकसद फासीवाद से लड़ना था.

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button