तो क्या राष्ट्रपति ट्रंप झूठे और धोखेबाज हैं?

जुबिली न्यूज डेस्क
पिछले माह जुलाई में अमेरिकी राष्ट्रपति  डोनॉल्ड ट्रंप की भतीजी ने अपनी किताब में उनके ऊपर गंभीर आरोप लगाया था और अब उनकी बहन ने उन्हें झूठा कहा है।
ट्रंप की बड़ी बहन और पूर्व फेडरल जज मैरिएन ट्रंप बैरी ने अपने भाई के लिए कहा कि उनका कोई सिद्धांत नहीं है।

एक खुफिया रिकार्डिंग में यह खुलासा हुआ है। ट्रंप की बहन की यह टिप्पणी उनकी भतीजी मैरी ट्रंप ने रिकॉर्ड की थी।
मैरी ट्रंप, डोनॉल्ड ट्रंप की भतीजी हैं। पिछले महीने ही मैरी ने एक किताब प्रकाशित की थी जिसमें राष्ट्रपति ट्रंप की कड़ी आलोचना की गई थी।
ट्रंप की बहन मैरिएन को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि ‘उसके बकवास ट्वीट और झूठ से, ईश्वर ही बचाए। यह धोखेबाजी और क्रूरता है।’
मैरी ट्रंप ने कहा है कि उन्होंने अपनी आंटी को खुफिया तरीके से इसलिए रिकॉर्ड किया था ताकि किसी भी कानूनी दांवपेच से बचा जा सके।
वहीं अपनी बहन के इस बयान पर राष्ट्रपति ट्रंप का बयान व्हाइट हाउस ने जारी किया है। इसमें कहा गया है कि ‘हर दिन कुछ अलग होता है, इसकी कौन परवाह करता है।’
ये भी पढ़े: भतीजी के सनसनीखेज आरोपों से कैसे बचेंगे राष्ट्रपति ट्रंप
यह भी पढ़ें : डंके की चोट पर : अज़ादारी पर बंदिश भक्त की नहीं हनुमान की बेइज्ज़ती है
यह भी पढ़ें :  प्रशांत भूषण मामले से कांग्रेस ने क्यों दूरी बना रखी है ?

इस रिकॉर्डिंग को सबसे पहले वॉशिंगटन पोस्ट अखबार ने प्रकाशित किया था जिसके बाद एसोसिएटेड प्रेस ने भी इसे छापा।
इस खुफिया रिकॉर्डिंग में बैरी ट्रंप प्रशासन की माइग्रेशन नीति की निंदा कर रही हैं। इस नीति के तहत बच्चों को सीमा पर प्रवासी हिरासत केंद्रों में रखा जाता है।
ट्रंप की भतीजी मैरी ट्रंप ने अपनी जीवनी टू मच एंड नेवर इनफ़: हाऊ माई फैमिली क्रिएटेड द वर्ल्ड्स मोस्ट डेंजरस मैन’ में यह रहस्योद्घाटन किया था कि उनके चाचा डोनाल्ड ट्रंप ने ख़ुद की जगह एसएटी की परीक्षा देने के लिए अपने दोस्त को पैसे दिए थे।
रिकॉर्डिंग में बैरी इस ओर इशारा कर रही हैं और यह भी बता रही हैं कि वो उस दोस्त का नाम जानती है। बैरी अपने भाई डोनाल्ड का समर्थन करती रही हैं और पहले भी कह चुकी हैं कि वो दोनों बहुत करीब हैं।
बैरी ने एक बार बताया था कि जब वो एक ऑपरेशन के सिलसिले में अस्पताल में भर्ती थीं तो उनके भाई रोजाना उन्हें देखने आते थे।
यह भी पढ़ें :   सरकार के जॉब पोर्टल पर कितने लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन और कितनों को मिली नौकरी
यह भी पढ़ें :  सोनिया गांधी ने दिया इस्तीफा !
यह भी पढ़ें :  जानिये कौन होगा कांग्रेस का नया अध्यक्ष
ट्रंप को स्टॉर्मी डेनियल्स को देनी होगी कानूनी फीस
वहीं, कैलिफोर्निया की शीर्ष अदालत के जज ने ट्रंप को स्टेफनी क्लिफार्ड उर्फ स्टॉर्मी डेनियल्स को 44,100 डॉलर देने का आदेश दिया है। कोर्ट ने यह आदेश दोनों के बीच हुए एक गुप्त समझौते की कानूनी फीस देने के लिए दिया है।
स्टॉर्मी ने ट्रंप पर आरोप लगाया था कि उन्होंने 2006 में उनके साथ लेक ताहो के एक होटल के कमरे में उनसे शारीरिक संबंध बनाए थे। हालांकि ट्रंप ने इन आरोपों से इनकार किया था।
डेनियल्स ने कहा था कि राष्ट्रपति चुनाव से एक दिन पहले अक्टूबर 2016 में 1.3 लाख डॉलर में उनसे चुप रहने के लिए एक समझौता किया गया था।
जज के ऑनलाइन प्रकाशित आदेश में कहा गया है कि यह मामला जरूर खारिज हो गया था लेकिन डेनियल्स इस मामले में एक ‘मजबूत पार्टी’ थीं इसलिए उन्हें कानूनी केस की रकम भी मिलनी चाहिए।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button