अभी-अभी: अमित शाह का बड़ा ऐलान, जनता की पहली पसंद योगी जी ही होंगे Up के मुख्यमंत्री…

जनता की पहली पसंद योगी जी है और up में इतनी जबरदस्त जीत के बाद बीजेपी में मख्यमंत्री उम्मीदवार की घोषणा करना बहुत ही मुस्कील हो गया है क्युकी जनता ने बीजेपी पर अपना भरोसा जताया है और अब जनता की पहली पसंद है की योगी जी ही मुख्यमंत्री हो 

उत्तर प्रदेश में कौन बनेगा मुख्यमंत्री ? सलमान खान की शादी कब होगी उस से भी ज्यादा ये सवाल आजकल पूछा जा रहा है। बीजेपी वाले भी यही सोच सोच कर हैरान हुए जा रहे हैं कि सूबे की कमान शाह किसके हाथ में सौंप दें। अमित शाह और पीएम मोदी के मन में क्या है ये कोई नहीं कह सकता है। एक तर्क ये दिया जा रहा है कि जिस तरह से महाराष्ट्र, हरियाणा में नए चेहरे पर दांव लगाया गया था उसी तरह से यूपी में भी किसी नए और बेदाग चेहरे को सीएम की कुर्सी पर बिठाया जा सकता है। हालांकि ये सारे कयास हैं बीजेपी की तरफ से सीएम पद को लेकर सबसे सटीक बात अभी तक केवल केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने की है। उन्होंने कहा है कि राज्य का मुख्यमंत्री जो भी हो वो सीएम पद की रेस में नहीं हैं।

कौन बनेगा मुख्यमंत्री के सवाल के बीच एक बात और फाइनल हो गई है। उत्तर प्रदेश में नई सरकार के शपथ ग्रहण की तारीख फाइनल हो गई है। वो तारीख है 17 मार्च की। यानि 17 मार्च को उत्तर प्रदेश में नई सरकार शपथ लेगी, जाहिर सी बात है कि मुख्यमंत्री पद की भी शपथ उसी दिन दी जाएगी। तो अब बात मुख्यमंत्री के साथ साथ मंत्रियों को लेकर भी होने लगी है। नई सरकार में किसे जगह मिलेगी, किस नेता को कौन से विभाग दिया जाएगा। मंत्रीमंडल में कितने मंत्री होंगे। इन सारी बातों को लेकर उत्तर प्रदेश की राजनीति में चर्चाओं का दौर जारी है। 17 मार्च को होने वाले शपथ ग्रहण के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस शपथ ग्रहण में पीएम मोदी भी शामिल होंगे। इसको देखते हुए सुरक्षा के इंतजामों में यूपी पुलिस जुट गई है।

उत्तर प्रदेश में सरकार के शपथ ग्रहण में कई दिग्गज नेताओं के भी शामिल होने की उम्मीद है। बीजेपी के बड़े नेताओं के साथ साथ कई बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी आ सकते हैं। कांग्रेस, सपा और बसपा के बड़े नेताओं को भी बुलावा भेजा जाएगा। शपथ ग्रहण समारोह को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। रेलवे स्टेशन से लेकर बस अड्डों तक कड़ी जांच की जा रही है। इसके लिए आस पास के जिलों से एक्स्ट्रा पुलिस को भी बुलाया गया है। अब बताते हैं कि इस शपथ ग्रहण का सबसे बड़ा राज क्या है। सबकी निगाहें मुख्यमंत्री के चेहरे पर टिकी हुई हैं। किसको मिलेगी देश के सबसे अहम सियासी सूबे की कमान। बताया जा रहा है कि शपथ ग्रहण से ठीक पहले यानि 16 मार्च को बीजेपी के विधायकों की बैठक बुलाई गई है।
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button