कोरोना वायरस : पड़ोसी मुल्क का क्या है हाल

 

न्यूज डेस्क
कोरोना वायरस के कहर से दुनिया के 186 देश दहशत में हैं। भारत के साथ-साथ पड़ोसी देश पाकिस्तान में भी कोरोना ने हाहाकार मचा रखा है। पाकिस्तान में भी कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। यहां अब तक कोरोना के 750 से अधिक पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं।
कोरोना संकट से जूझ रहे पाकिस्तान में अब तक लॉकडाउन नहीं किया गया है, जबकि अधिकांश संक्रमित देशों ने लॉकडाउन कर दिया है। लॉकडाउन पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि वह पाकिस्तान को पूरी तरह से
लॉकडाउन करने का ऐलान नहीं कर सकते हैं, क्योंकि यहां 20 फीसदी से अधिक लोग गरीबी रेखा से नीचे हैं और उन्हें काफी परेशानी होगी। हालांकि, पीएम इमरान ने ये अपील भी की कि लोग खुद ही घर पर रहने की कोशिश करें।
ये भी पढ़े : आखिर क्यों रूस कोरोना के बारे में फैला रहा है झूठ?
ये भी पढ़े :  कोरोना को हराने के लिए आगे आये उद्योगपति

एक तरफ प्रधानमंत्री इमरान खान ने देशभर में लॉकडाउन के ऐलान से इनकार किया तो वहीं सिंध प्रांत ने राज्य के स्तर पर 15 दिनों का लॉकडाउन कर दिया है। पाकिस्तान में सिंध प्रांत में ही कोराना वायरस के सर्वाधिक मामले सामने आए हैं। अब तक सिर्फ सिंध में ही 352 केस सामने आ चुके है, जबकि पूरे देश में संख्या 799 है।
प्रधानमंत्री खान ने पाकिस्तानी आवाम को संबोधित करते हुए कहा कि वह लॉकडाउन नहीं लगा रहे हैं, लेकिन पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा लोग अपने घर में ही रहें, अगर कोई सड़क पर मिलता है तो पुलिस उससे सवाल-जवाब कर सकती है और सड़क पर घूमने का कारण, आईडी कार्ड के बारे में पूछ सकती है। अगर किसी व्यक्ति को अस्पताल जाना है तो एक गाड़ी में तीन लोग से अधिक नहीं हो सकते हैं।
अपने संबोधन में सबसे पहले इमरान खान ने लोगों को लॉकडाउन के बारे में बताया और अमेरिका, यूरोप के देशों का हवाला दिया। फिर ये भी बताया कि पाकिस्तान में इसे लागू क्यों नहीं किया जा सकता है। पाकिस्तान में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 5 लोगों की मौत हो गई है।
शुरुआत के दिनों में पाक में कोरोना के काफी कम मामले थे, लेकिन पिछले 5 दिनों में एकाएक बढ़ोतरी हुई है। दुनियाभर के देशों की लिस्ट में पाकिस्तान अब टॉप 30 में शामिल हो चुका है, जहां पर कोरोना वायरस का सर्वाधिक कहर है। पाकिस्तान ने अपने बॉर्डर को भी बंद करने का फैसला लिया है।
ये भी पढ़े :   कोरोना संकट से निपटने के लिए नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष ने क्या सलाह दी?

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button