कानपुर पुलिस लाइन हादसा: सिपाही को अफसरों ने दी अंतिम विदाई

कानपुर में  सोमवार को पुलिस लाइन बैरक की छत गिरने से हुए हादसे में दिवंगत सिपाही को पुलिस लाइन में मंगलवार की दोपहर शोक सलामी के साथ जवानों ने नम आंखों से अंतिम विदाई दी। पार्थिव शरीर को मैनपुरी स्थित पैतृक गांव रवाना करने से पहले एडीजी जयनारायन सिंह, आइजी मोहित अग्रवाल, एसएसपी डॉ. प्रीतिंदर सिंह ने कंधा देकर पुलिस वाहन तक पहुंचाया। शव देखते ही पत्नी और दोनों बेटे बेहाल हो गए।

बता दें कि पुलिस लाइन स्थित बैरक नंबर एक की पहली मंजिल के दायीं ओर के छज्जे की छत ढह गई थी। बरामदे में नीचे मौजूद 48 वर्षीय सिपाही अरविंद सिंह यादव की दबकर मौत हो गई थी। वहीं पहली मंजिल पर छज्जे पर लेटे दो सिपाही अमृतलाल व राकेश भी नीचे गिरने से गंभीर रूप से घायल हो गए थे। मंगलवार सुबह करीब 12 बजे अरविंद के शव का पोस्टमार्टम हुआ, इसके बाद शव पुलिस लाइन स्थित शहीद स्थल ले जाया गया। पुलिस जवानों के साथ एडीजी, आइजी व एसएसपी ने शव को कंधा दिया और नम आंखों से श्रद्धांजलि दी। जवानों ने शस्त्रों झुकाकर सलामी देने के बाद पार्थिव शरीर पैतृक गांव मैनपुरी रवाना करा दिया।

एसपी पश्चिम डॉ. अनिल कुमार ने बताया कि अरविंद मूलरूप से मैनपुरी के बकेवर थाना अंतर्गत लालपुर गांव के रहने वाले थे। परिवार में उनकी पत्नी नीलेश देवी, दो बेटे हिमांशु और प्रियांशु हैं। हिमांशु बीकॉम में पढ़ रहा है तो प्रियांशु अभी 10वीं में है। अरविंद कल्याणपुर के बारासिरोही में कमरा किराये पर लेकर परिवार के साथ रह रहे थे। सोमवार को घटित इस घटना में घायल तीनों जवानों की हालत खतरे से बाहर है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button