एससी एसटी एक्ट मामला: इलाहाबाद में भी हुआ प्रदर्शन, रोकी गयी ट्रेन

इलाहाबाद: अनुसूचित जाति और जनजाति के उत्पीड़न के मामलों को लेकर बसपा और कई दलित संगठनों ने कलेक्ट्रेट और सुभाष चौराहे पर प्रदर्शन किया। सिविल लाइंस बाजार भी बंद कराया और प्रदर्शनकारियों ने एक मालगाड़ी भी रोकी। पूरे दिन अफरातफरी मची रही।एससी एसटी एक्ट मामला: इलाहाबाद में भी हुआ प्रदर्शन, रोकी गयी ट्रेन

अनुसूचित जाति और जनजाति के उत्पीड़न के मामलों में मुकदमा दर्ज होते ही गिरफ्तारी पर रोक लगाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर इलाहाबाद, प्रतापगढ़ और कौशांबी में भी प्रदर्शन हुआ। इस फैसले को लेकर दलित संगठनों ने इलाहाबाद के कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। वहीं दलित संगठन से जुड़े हजारों प्रदर्शनकारियों ने प्रयाग स्टेशन पर कई घंटे तक मालगाड़ी रोके रखी। इससे कई ट्रेनों का आवागमन प्रभावित हो गया और यात्रियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

वहीं सिविल लाइंस और कटरा में दुकान बंद कराने को लेकर प्रदर्शकारियों और व्यापारियों में हल्की झड़प भी हुई। इस दौरान पुलिस फोर्स मूक बनी रही। कलेक्ट्रेट में दिन भर प्रदर्शनकारियों का जमावड़ा लगा रहा। उन्होंने एससी-एसटी एक्ट में हुए परिवर्तन को दलितों को कमजोर करने की साजिश करार दिया। कहा कि इससे समाज के दंबंगों का मनोबल बढ़ेगा। दलितों के साथ अन्याय में वृद्धि होगी और वे कमजोर होंगे।

ऐसे में उनका प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा, जब तक कि न्याय नहीं मिल जाता। वहीं जिला प्रशासन ने प्रदर्शन को देखते हुए अलर्ट जारी कर दिया। एसएसपी और एसपी सिटी पुलिस फोर्स के साथ कलेक्ट्रेट से लेकर सिविल लाइंस तक भ्रमण करते रहे। साथ में प्रदर्शनकारियों से यह अपील भी की जाती रही कि कानून व्यवस्था को हाथ में न लें। हालांकि कई स्थानों पर पुलिस से भी हल्की झड़प हुई। वहीं व्यापारियों ने प्रदर्शनकारियों पर दबंगई का आरोप लगाया। कहा कि उनका प्रतिष्ठान बंद कराकर प्रदर्शनकारियों ने उन्हें नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है।

You may also like

‘नमोस्तुते माँ गोमती’ के जयघोष से गूंजा मनकामेश्वर उपवन घाट

विश्वकल्याण कामना के साथ की गई आदि माँ