इस राज्य में आधार कार्ड के बिना नहीं मिलेगी कोरोना की दवा

जुबिली न्यूज डेस्क
देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। अब तो हर दिन 20 हजार से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। अब तक देश में कोरोना के 8 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। महाराष्ट्र में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालात बेकाबू होता देख महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना की दवाई को लेकर एक बड़ा फैसला किया है।
ये भी पढ़े: तो क्या ठांय..ठांय के शोर में भी सोते रहेंगे माई लॉर्ड !
ये भी पढ़े: ‘कोरोना वायरस बीते 100 सालों का सबसे बड़ा संकट’
ये भी पढ़े:  क्‍या खतरे में गहलोत सरकार ?

Loading...

महाराष्ट्र  सरकार ने कोरोना की दवा के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है। जिसके पास आधार नहीं है उसे अब दवा नहीं मिलेगी। दरअसल सरकार ने यह फैसला दवाओं की भारी किल्लत को देखते हुए किया है। अब मरीज के रिश्तेदारों या परिजनों को आधार कार्ड के बिना दवाई नहीं दी जाएगी। उद्धव ठाकरे सरकार ने शुक्रवार को यह फैसला लिया है।
महाराष्ट्र सरकार ने तय किया है कि रेमडेसिवीर और तोसलिजुमाब दवाओं का बीएमसी हॉस्पिटल में इस्तेमाल अब सिर्फ मंजूरी के बाद ही किया जाएगा। इस फैसले के बाद अब मेडिकल दुकानदार आधार कार्ड, डॉक्टरों की पर्ची और कोरोना टेस्ट रिपोर्ट के बिना मरीजों को रेमडेसिवीर दवा को नहीं बेच सकेंगे।
ये भी पढ़े: सितंबर तक लागू हो जायेगा श्रम सुधारों से जुड़ा पहला कानून ‘मजदूरी संहिता’
ये भी पढ़े: सुब्रमण्यम स्वामी ने पूछा- क्या वे कानून से ऊपर हैं ?
ये भी पढ़े: कैसे हुआ करोड़ों का ‘विकास’, ED ने शुरू की जांच

बीते 24 घंटे में महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 7862 नए मामले सामने आए, तो वहीं 226 मरीजों की जान भी चली गई। यहां कोरोना के कुल मामले दो लाख 38 हजार 461 हो गए हैं। महाराष्ट्र के खाद्य एवं औषधि प्रशासन मंत्री राजेंद्र शिंगने ने कहा कि यह फैसला इन प्रायोगिक दवाओं की कमी की खबरों सामने आने के बाद विचार विर्मश करने के बाद लिया गया है।

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...