इन सरकारी कंपनियों पर ताला लगाने की तैयारी!

जुबिली न्यूज़ डेस्क
नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने अपनी कंपनियों पर और उनकी यूनिट्स में हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में है। इसके साथ छह कंपनियों को बंद करने का विचार किया जा रहा है। जिन कंपनियों को बंद करने पर विचार किया जा रहा है, उनमें हिंदुस्तान फ्लोरोकार्बन लिमिटेड (HFL), स्कूटर्स इंडिया, भारत पंप्स एंड कम्प्रेसर्स लिमिटेड, हिंदुस्तान प्रीफैब, हिंदुस्तान न्यूजप्रिंट और कर्नाटक एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड शामिल हैं।
ये भी पढ़े: सलमान खान फिर मुश्किल में 28 सितम्बर को कोर्ट में तलब
ये भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण से आखिर वसूल ही लिया एक रुपया
वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने लोकसभा में एक लिखित उत्तर में उन्होंने कहा कि इन कंपनियों में रणनीतिक विनिवेश की प्रक्रिया विभिन्न चरणों में है। उन्होंने कहा कि सरकार स्ट्रैटजिक स्टेक सेल और माइनोरिटी स्टेक डाइल्यूशन के जरिए विनिवेश की नीति पर चल रही है।

Loading...

ये भी पढ़े: आईपीएस अफसरों के बुरे दिन, मातहतों पर भी संकट
ये भी पढ़े: बड़ी खबर : 25 सांसदों को भी हुआ कोराना
इसके अलावा प्रोजेक्ट एंड डेवलपमेंट इंडिया लिमिडेट, इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट (इंडिया) लिमिटेड, ब्रिज एंड रूफ कंपनी इंडिया लिमिटेड, सीमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (CCI) की यूनिट्स, सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (BEML), फैरो स्क्रैप निगम लिमिटेड और एनएमडीसी का नागरनार स्टील प्लांट में विनिवेश की प्रक्रिया चल रही है।
साथ ही एलॉय स्टील प्लांट, दुर्गापुर, सेलम स्टील प्लांट, सेल की भद्रावती यूनिट, पवन हंस, एयर इंडिया और इसकी पांच सहायक कंपनियों तथा एक संयुक्त उपक्रम में रणनीतिक बिक्री की प्रक्रिया जारी है।
एचएलएल लाइफ केयर लिमिटेड, इंडियन मेडिसिन एंड फार्मास्यूटिक्ल कॉरपोरेशन लिमिटेड, आईटीडीसी की विभिन्न यूनिट्स, हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स, बंगाल केमिकल्स एंड फार्मास्यूटिकल्स, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड, शिपिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया और नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड में भी स्ट्रेटजिक सेल होगी।
ये भी पढ़े: कहीं आपकी भी जासूसी तो नहीं कर रहा चीन !
ये भी पढ़े: तो क्या अभी भी नाराज हैं सचिन पायलट?

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...