आमिर खान पर आरएसएस ने क्या आरोप लगाया?

आरएसएस ने कहा- भारत विरोधी ताकतों से हिल-मिल रहे आमिर खान
पांचजन्य में बताया चीन की सत्ताधारी पार्टी का प्यारा
जुबिली न्यूज डेस्क
अभिनेता आमिर खान राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के निशाने पर हैं। आरएसएस ने कहा है कि आमिर भारत विरोधी ताकतों से हिल-मिल रहे हैं।
आरएसएस के निशाने पर आमिर एक तस्वीर के वायरल होने के बाद आए हैं। आमिर की एक तस्वीर वायरल हुई है जिसमें वह तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब इरदुगान की पत्नी एमी एर्दोगान के साथ है।
इतना ही नहीं संघ के मुखपत्र पांचजन्य में उन्हें चीन की सत्ताधारी पार्टी का प्यारा भी बताया गया है। साथ ही कहा गया कि दंगल स्टार भारत विरोधी ताकतों से हिल-मिल रहे हैं।
ये भी पढ़े: …तो बंद होगी ऑनलाइन क्लास, हाईकोर्ट करेगा सुनवाई
ये भी पढ़े: क्या सुशांत केस से ‘साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी’ होगी कारगर

आरएसएस के मुखपत्र पांचजन्य में लिखा गया कि हमारे देश में जनता किसी फिल्मी सितारे को बुलंदियों पर पहुंचाती है तो वह उसके मजहब को नहीं देखती। उसकी फिल्मों पर खूब पैसा लुटाती है। लोग उसके मजहब के नहीं बल्कि उसकी अदाकारी के प्रशंसक होते हैं।
लेख में आगे लिखा गया है कि ‘मगर तब क्या हो जब वही इंसान देशवासियों को ठेंगा दिखाते हुए उनके प्यार के बदले ‘पहले मजहब फिर देश’  की जिहादी सोच दिखाने लगे या दुश्मन देश के चंद पैसों पर कठपुतली सा चलने लगे, दुश्मन देश की मेहमाननवाजी पूरी बेशर्मी से कबूलने लगे? इसके लिए क्या देशवासी खुद को ठगा महसूस नहीं करेंगे? आजकल चीन और तुर्की के चहेते बने आमिर खान की इन्हीं सब बातों को लेकर उनके प्रशंसकों के साथ ही आम देशभक्तों में गुस्सा दिख रहा है।’
इस लेख को विशाल ठाकुर ने लिखा हैं। उन्होंने अपने लेख में लिखा हैं-अक्षय कुमार, अजय देवगन, जॉन अब्राहम और कंगाना रनौत जैसे कुछ फिल्मी सितारे और फिल्मकार हैं जिनके लिए राष्ट्रवाद और देशभक्ति की फिल्में बनाना देश के प्रति अपनी निष्ठा जताने जैसा है। इसमें कहा गया कि एक आमिर खान हैं जिन्हें दुश्मन देश चीन, पाकिस्तान और तुर्की के साध हिल-मिलने में कोई परेशानी नहीं। तुर्की इन दोनों देशों के साथ मिलकर भारत के खिलाफ जिहादी मंसूबे पाले बैठा है और आमिर खान इन दिनों वहीं डेरा डाले बैठे हैं।
ये भी पढ़े:  थरूर के डिनर पार्टी में सोनिया को पत्र लिखने के लिए बनी थी भूमिका
ये भी पढ़े: कांग्रेस : लैटर बम फोड़ने वाले नेता क्या अब चुप बैठ जाएंगे?
ये भी पढ़े: सरकार के जॉब पोर्टल पर कितने लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन और कितनों को मिली नौकरी

विशाल ठाकुर ने अपने लेख में तुर्की की प्रथम महिला संग आमिर की मुलाकात पर नाराजगी जाहिर की गई है। लेख में कहा गया है कि भारत कोरोना के खिलाफ मजबूती से लड़ रहा है और आमिर खान अपनी फिल्म की शूटिंग की तैयारी के सिलसिले में एमी एर्दोगान की आवभगत में झुककर दोहरे हुए जा रहे हैं।
संपादकीय में यह भी कहा गया कि चीन के प्रति आमिर खान का प्रेम पहले से ही संदिग्धता का दायरे में हैं। आजकल चीन में किसी खान की फिल्मों की सफलता के बरअक्स कई अन्य फिल्मी सितारे असफल क्यों साबित होते हैं। चीन में आमिर खान की फिल्में ना केवल शानदार कारोबार करती हैं बल्कि वो भारत में चीनी उत्पादों को धड़ल्ले से प्रचार करके करोड़ों कमाते हैं। आमिर खान की चीन सत्ताधारी पार्टी की प्यारे हैं। वो चीन के उत्पाद वीवो मोबाइल फोन के ब्रांड एम्बेसेडर हैं जो सुरक्षा के नियमों की खुलेआम अनदेखी करता है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button