आत्मनिर्भर भारत’ : केवल ‘भ्रमित’ नागरिकों  की समझ के लिए 

श्रवण गर्ग, वरिष्ठ पत्रकार‘श्रवण गर्ग,  
पूर्व प्रधान सम्पादक दैनिक भास्कर एवं नई दुनिया 
1: नागरिक अपने सभी कष्टों के लिए अब स्वयं ही ज़िम्मेदार होंगे।हर क़िस्म की पूछताछ भी अब नागरिकों को स्वयं से ही करनी पड़ेगी।
2: हाल के उत्साहवर्धक परिणामों को देखते हुए नागरिकों को लम्बी-लम्बी पैदल यात्राएँ करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
3: जो नागरिक घरेलू चिकित्सा के ज़रिए महामारियों से अपनी जानें बचा लेंगे उन्हें सरकारों द्वारा सम्मानित किया जाएगा।
4: नागरिकों को ध्यान रखना होगा कि केवल ‘लोकल’ को ही ‘ग्लोबल’ बनाना है ,उल्टा नहीं होने देना है।वैवाहिक सम्बन्धों को छोड़कर।
5: आत्मनिर्भर होने का अर्थ यह नहीं होगा कि राजनीतिक फ़ैसले भी नागरिक ही लेने लगेंगे।इस सम्बंध में व्यवस्था पूर्ववत जारी रहेगी।
6: ‘लोकल’ को प्रोत्साहन का मतलब विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार नहीं माना जाएगा।पनडुब्बियों, विमानों, आदि का आयात जारी रहेगा।
7: राष्ट्र अगर ‘आत्मनिर्भर’ नहीं हो पाता है तो उसे नागरिकों की ही असफलता माना जाएगा ।शासकों की विफलता नहीं बताया जाएगा।
8: ‘आत्म निर्भरता’ का मूल मंत्र ‘संकट’ को ‘अवसर’ में बदलना है।यह लड़ाई चूँकि जनता की है, इस बार  उसे ही उसका नायक बनाया जा रहा है।
9: आत्मनिर्भरता का मतलब आपस में मिलकर काम करना नहीं होगा।जो दूरियाँ आपस में बढ़ा दी गई है, उसमें और भी वृद्धि करते जाना है।
10: धीरे-धीरे इसी सोच पर पहुँचना होगा कि ‘लॉक डाउन’ केवल एक मानसिक स्थिति है।इससे आगे आने वाले सभी संकट अच्छे से बर्दाश्त कर सकेंगे।
11: अंत में यह कि महामारी चाहे ‘ग्लोबल’ हो और उससे निपटने में चाहे दुनिया लगी हो ,नागरिकों को तो उससे ‘लोकल’ मानकर ही निपटना है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button