अमेरिका ने अपने नागरिकों से क्यों कहा कि भारत की यात्रा न करें

अमेरिका ने भारत को पाकिस्तान, सीरिया और यमन की श्रेणी में डाला
इंडियन टूरिज्म एंड हॉस्पिटलटी संघ ने भारत सरकार से लगाई गुहार, कहा-वे अमेरिका सरकार से ट्रेवेल अडवाइजरी को बदलने के लिए डाले दबाव
जुबिली न्यूज डेस्क
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप की दोस्ती के किस्से आम हैं। ये दोनों लोग एक-दूसरे के बहुत अच्छा दोस्त बताते हैं और एक दूसरे की हरसंभव मदद करने की बात करते हैं। लेकिन इस कोरोना महामारी के बीच में जब भारत का पर्यटन उद्योग कराह रहा है तो अमेरिका ने अपने नागरिकों को भारत की यात्रा न करने की सलाह दी है।
अमेरिका ने यह सलाह कोरोना महामारी, अपराध और आंतकवादी घटनाओं को देखते हुए दिया है। इतना ही नहीं अमेरिका ने भारत की यात्रा के लिए रेटिंग 4 निर्धारित की है जिसे सबसे खराब माना जाता है।
ये भी पढ़े:   संसदीय कमेटियों को लोकसभा स्पीकर ने हड़काया, कहा-जो मामले राष्ट्रीय सुरक्षा…
ये भी पढ़े:  अर्थव्यवस्था को लेकर आरबीआई ने क्या कहा?
ये भी पढ़े:  आमिर खान पर आरएसएस ने क्या आरोप लगाया?

इस श्रेणी भारत के अलावा युद्धग्रस्त सीरिया, आतंकवाद का केंद्र पाकिस्तान, ईरान, इराक और यमन शामिल हैं।
अमेरिका ने अपने देशवासियों से कहा है कि भारत में कोरोना महामारी है। इसके अलावा भारत में अपराध और आतंकवाद में तेजी आई है, इसलिए अमेरिकी नागरिक भारत की यात्रा न करें।
अमेरिका ने अपने अडवाइजरी की कुछ अन्य वजहों में महिलाओं के खिलाफ अपराध और उग्रवाद को भी कारण बताया है। उधर, इंडियन टूरिज्म एंड हॉस्पिटलटी संघ (FAITH) ने भारत सरकार से गुहार लगाई है कि वे अमेरिका सरकार से ट्रेवेल अडवाइजरी को बदलने के लिए दबाव डाले।
इंडियन टूरिज्म एंड हॉस्पिटलटी संघ ने कहा कि भारत सरकार इसे प्राथमिकता के आधार पर उठाए ताकि भारत के बारे में बन रही नकारात्मक छवि को रोका जा सके।
फेथ ने कहा कि कोरोना महामारी की वजह से पर्यटन उद्योग गंभीर संकट से गुजर रहा है और जल्द ही भारत में यह उद्योग फिर से अपने आपको शुरू करने जा रहा है।
अमेरिका की ओर से 23 अगस्त को जारी इस ट्रेवेल अडवाइजरी में भारत के अलावा पाकिस्तान, सीरिया, यमन, ईरान और इराक जैसे हिंसा प्रभावित देशों को शामिल किया गया है।
ये भी पढ़े:  थरूर के डिनर पार्टी में सोनिया को पत्र लिखने के लिए बनी थी भूमिका
ये भी पढ़े: कांग्रेस : लैटर बम फोड़ने वाले नेता क्या अब चुप बैठ जाएंगे?
ये भी पढ़े: सरकार के जॉब पोर्टल पर कितने लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन और कितनों को मिली नौकरी
ये भी पढ़े: …तो बंद होगी ऑनलाइन क्लास, हाईकोर्ट करेगा सुनवाई

भारत-पाक सीमा पर नहीं जाने के लिए चेतावनी
भारत के लिए अमेरिकी पर्यटक हर मौसम में बेहद अहम रहे हैं। अमेरिका से आने वाले पर्यटक अन्य देशों की तुलना में सबसे ज्यादा समय तक भारत में रहते हैं। अमेरिकी पर्यटक जहां 29 दिन तक रहता है, वहीं अन्य देशों के लोग 22 दिनों तक रहते हैं।
फेथ ने कहा कि अगर अमेरिका सरकार भारत के पक्ष में ट्रेवेल अडवाइजरी जारी करती है तो यह भारत में यात्रा को लेकर एक अच्छा माहौल पैदा करेगा। इससे कोरोना से कराह रहे पर्यटन उद्योग को बहुत राहत मिलेगी।
अमेरिकी अडवाइजरी में यह भी चेतावनी दी गई है कि कोरोना वायरस की वजह से सीमा को बंद किया जा सकता है और एयरपोर्ट को बंद किया जा सकता है। यात्रा पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है। लॉकडाउन लग सकता है।
अमेरिका के विदेश विभाग ने विशेष रूप से जम्मू-कश्मीर और भारत-पाकिस्तान सीमा पर नहीं जाने के लिए चेतावनी जारी की है। फेथ ने कहा कि सीरिया और पाकिस्तान की सूची में डाला भारत के लिए बहुत खराब स्थिति है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button