अनोखी मिसाल… दिया अर्थी को कंधा, राम नाम सत्य है बोलकर किया दाह संस्कार

न्यूज़ डेस्क
लखनऊ। कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन के दौरान यूपी में हिंदू-मुस्लिम एकता की अनोखी मिसाल देखने को मिली है। दरअसल एक हिंदू परिवार में वृद्ध का निधन हो गया। लॉकडाउन के चलते अर्थी को कंधा देने के लिए उनके परिवार का कोई नहीं था।
यह खबर जैसे ही आसपास के मुस्लिमों को पता चली तो वे पहुंच गए। उन लोगों ने अर्थी को न केवल कंधा दिया, बल्कि हिंदू धर्म से शव को घाट पर लेकर जाकर अंतिम संस्कार भी कराया। यह मामला यूपी के बुलंदशहर के आनंद विहार का है।
ये भी पढ़े: चीन, अमरीका और फ्रांस का दावा, ढूंढ लिया कोरोना का इलाज

बुलंदशहर के मोहल्ला आनंद विहार साठा निवासी रविशंकर का बीमारी के चलते शनिवार को निधन हो गया। मृतक के परिजनों ने रिश्तेदारों को सूचना दी, ताकि सभी लोग आ सके और मृतक का अंतिम संस्कार किया जा सके। लेकिन लॉकडाउन के चलते कोई भी नहीं आ सका। वहीं इसकी जानकारी आसपास रहने वाले मुस्लिम समाज के लोगों को मिली तो वह एकत्र हो गए।
ये भी पढ़े: लॉकडाउन के बीच कर्मचारियों को राहत की सांस, कई कंपनियों ने दी एडवांस सैलरी
मुस्‍लिम समुदाय के कुछ युवकों का कहना था कि रवि शंकर यहीं रहते थे। हम सभी एक परिवार जैसे ही हैं। इसमें अब हिंदू और मुसलमान की कोई बात ही नहीं थी।
मुस्लिम समाज के बाबू खां, जाहिद अली प्रधान, मोहम्मद इकराम आदि लोगों ने न सिर्फ अर्थी को कंधा दिया, बल्कि शव को कालीनदी श्मशान घाट ले जाकर उसका अंतिम संस्कार भी कराया। लोगों ने मुस्लिम समाज के लोगों की सराहना की और इसे हिंदू मुस्लिम एकता के लिए एक सराहनीय कदम बताया।
मुसलमानों ने हिंदू धर्म से रवि शंकर के शव की अंतिम यात्रा निकाली। इस दौरान मुसलमान युवकों ने भी राम नाम सत्य है कहते देखे गए। श्मशान में भी पूरे रीति रिवाजों के साथ ही रवि का अंतिम संस्कार किया गया। यह देख सभी हैरान तो थे ही साथ ही इस भाईचारे की तारीफ करते भी नहीं थक रहे थे।
ये भी पढ़े: सीएम योगी ने 27.5 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे 611 करोड़ रुपये

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button