अगर आप ईयर फोन लगाकर सोते हैं तो तुरंत जान लीजिए यह जरूरी बात, कहीं बाद में पछताना ना पड़े

आज का समय काफी बदल चुका है। आज का समय ऐसी तकनीक आ गई है कि जिसकी मदद से आप खुद से दूर हो सकते हैं, आप मोबाइल के कारण किसी व्यक्ति से बात भी कर सकते हैं लेकिन कुछ लाभ के कारण, उस चीज़ का नुकसान भी होता है।

जैसे कि हम मोबाइल से कई प्रकार के काम कर सकते हैं, लेकिन यदि पूरे दिन मोबाइल का उपयोग किया जाता है, तो इसका विकिरण हमारे दिल, दिमाग और हमारे शरीर को प्रभावित करता है। अधिक इयरफ़ोन का उपयोग करने की की वजह से, आप इयरफ़ोन का उपयोग करके अपना नुकसान भी कर सकते हैं, जिससे आप सुनने की काबिलियत खो देंगे। आइए जानें कि इयरफ़ोन का उपयोग कैसे करें।

कान में इयरफ़ोन लगाने के बाद भी कई लोग मोबाइल की आवाज़ इतनी तेज कर देते हैं किमोबाइल के अलावा उन्हें किसी और चीज की आवाज सुनाई नहीं देती, और ऐसा करके, कान का पर्दा हिलना शुरू हो जाता है और धीरे-धीरे आवाज सुनने की चमता घटने लगती है।

किसी भी व्यक्ति के कान 65 डेसिबल तक की आवाज़ सहन कर सकते हैं, लेकिन जब कोई व्यक्ति इयरफ़ोन का उपयोग करता है, तो 100 से अधिक डेसिबल आवाज तक जाता, जिससे हमारा काम क्षतिग्रस्त हो सकता है वह कान का पर्दा फटने का भी डर है जिससे हम बहरे हो सकते हैं।

बहुत से लोग सोते समय इसका उपयोग करते हैं वे रात में कान में इयरफ़ोन पहनकर सोने की कोशिश करते हैं लेकिन आपको नहीं पता कि सोने की सबसे बड़ी समस्या यह है कि जब आप इयरफ़ोन का उपयोग करते हैं तो आपके कानों पर एक गहरा प्रभाव पड़ता है सोते समय तेज ध्वनि तनाव का कारण बन जाता है.

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button