आप सोच भी नहीं सकते उँगलियाँ चटकाने से क्या हो सकता है ? ज़रूर जान ले…

हममे से कुछ लोग ऐसे होते है जो नादानी में बहुत सारी ऐसी गलतियां कर बैठते है जिसका उनके शरीर पर काफी बुरा असर पड़ता है और ऐसे ही कुछ लोग होते है जिन्हे अपनी उंगलियां चटकाने में बड़ा मज़ा आता है. कुछ लोग दिन में 1 या 2 बार अपनी उंगलियां चटकाते है लेकिन कुछ लोग तो हर थोड़ी देर बाद जोर जोर से अपनी उंगलियां चटकाते रहते हैं लेकिन ऐसा करने से उन्हें कितना नुकसान होता है ये नहीं जानते है वो लोग.

उंगलियां चटकाना न ही अच्छा है और न ही बुरा…
आज हम आपको कुछ ऐसी बाते बताने जा रहे है जिसे जानने के बाद आप अपनी उंगलियां कभी नहीं चटकाएगे. डॉक्टर के अनुसार उंगलियां चटकाना न ही अच्छा है और न ही बुरा लेकिन जो लोग दिन में कई बार उंगलियां चटकाते है. उन्हें जोड़ों में दर्द जैसी समस्या हो सकती है, क्यूंकि कई सारे अध्ययनों में ये दावा किया गया है कि उंगलियां चटकाना जोड़ों के लिए काफी हानिकारक होता है.

उंगलियों को चटकाने की आदत से आप गठिया जैसे दर्दनाक बीमारी का शिकार बन सकते है. इतना ही नहीं ब्रिटिश के एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार उंगलियों को चटकाने की आदत गठिया जैसी बीमारी का सबब बन सकती है क्युकी हमारी उंगलियो की हड्डियां लिगामेंट से एक दूसरे से जुड़ी होती हैं लेकिन जब अपनी उंगलियां चटकाते है तब इन हड्डियों में दरार आ जाती है.

आपस में लिगामेंट से जुड़ी होती हैं और हम बार बार उंगलियों को चटकाते है तो उंगलियों के बीच में होने वाला लिक्विड कम होने लगता है और अगर ये लिक्विड खत्म हो जाये तो हमे गठिया जैसी गंभीर बीमारी भी हो सकता है.अगर कोई मनुष्य बार बार अपनी उंगलियां चटकाता है तो वो अपनी हड्डियों को बार बार दूसरी हड्डी से खींचता है और अगर जोड़ों को बार-बार खींचा जाए तो इससे हमारी हड्डियों की पकड़ भी कम हो सकती और हमारी ऊँगली टूट भी सकती है.

अधिक जानकारी के लिए देखें नीचे दी गई वीडियो. अगर किसी वजह से वीडियो न चले तो वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें !

Loading...

Check Also

सुबह जल्दी जगने वाली महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा रहता है कम

सुबह जल्दी जगने वाली महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा रहता है कम

अपने दिन की शुरुआत देर से करने वाली महिलाओं की तुलना में सुबह जल्दी उठने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com