पांच लाख बच्चों की यमन संघर्ष के कारण छूटी पढ़ाई- यूनिसेफ

यमन के गृह युद्ध में सऊदी अरब और उसके सहयोगियों के हस्तक्षेप के बाद से अभी तक करीब पांच लाख यमनी बच्चों ने स्कूल छोड़ा है. यूनिसेफ ने यह जानकारी देते हुए कहा कि करीब बीस लाख बच्चों को शिक्षा नहीं मिल पा रही है क्योंकि युद्ध में भाग लेने के लिए नाबालिगों की भर्ती की जा रही है.

यूनिसेफ के यमन प्रतिनिधि मेरिट्शेल रेलानो ने कहा, ‘‘ यमन में बच्चों की एक पूरी पीढ़ी का भविष्य अंधकारमय हो रहा है क्योंकि उन्हें शिक्षा नहीं मिल रही है या बेहद सीमित तरीके से मिल रही है.’’ उन्होंने कहा कि स्कूल जाने के रास्ते भी खतरनाक हो गये हैं. बच्चों की सुरक्षा की चिंता में कई माता- पिता उन्हें घर में रखना पसंद कर रहे हैं. यूनिसेफ का कहना है कि 2015 से अभी तक सशस्त्र बलों ने अभी तक कम से कम 2,419 बच्चों की भर्ती की है.

इस भारतीय को रातोंरात लॉटरी टिकट ने बनाया दुबई में करोड़पति

गौरतलब है कि पिछले साल सऊदी अरब के यमन में राहत सामग्री पर रोक लगाने से भुखमरी के हालात बन सकते थे. संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के प्रमुख ने चेताया था कि अगर सऊदी अरब नीत गठबंधन ने यमन पर लगाई गई अपनी रोक नहीं हटाई और राहत सामग्रियों को देश में लाने की स्वीकृति नहीं दी तो यमन को बड़े पैमाने पर भुखमरी का सामना करना पड़ेगा जिसमें लाखों लोगों का जीवन प्रभावित होगा. 

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान