गोरखपुर के रामगढ़ ताल में नौकायन जल्द, गोताखोर करेंगे सुरक्षा

गोरखपुर: सप्ताह भर पहले रामगढ़ ताल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा लोकार्पित जेटी से नौकायन का सिलसिला महज दो से तीन दिन में शुरू हो जाएगा। इसे लेकर तैयारी पूरी कर ली गई है। पर्यटन निगम को नौकायन प्रक्रिया संचालित करने के लिए संसाधन सौंप दिए गए हैं और सुरक्षित नौकायन के मानक भी तैयार कर लिए गए हैं।गोरखपुर के रामगढ़ ताल में नौकायन जल्द, गोताखोर करेंगे सुरक्षा

नौकायन के दौरान किसी अनहोनी से निपटने के लिए जेटी के इर्दगिर्द गोताखोर मौजूद रहेंगे, जिनपर यह जिम्मेदारी होगी कि किसी भी परिस्थिति में जनहानि न होने दें। नाव पर किसी भी खाद्य सामग्री के साथ सवार होना वर्जित रहेगा। इसे वर्जित करने के पीछे विभाग का तर्क है कि खाद्य सामग्री के अवशेषों को नौकायन करने वाले लोग ताल में फेक देंगे, जिससे उसका पानी गंदा होगा। यह सिलसिला लंबा चला तो ताल को साफ बनाए रखना चुनौती होगा।

पर्यटन विभाग के मुताबिक जीडीए की अगुवाई में जल निगम द्वारा पर्यटन निगम को 20 नौकाएं सौंप दी गई हैं। इनमें 10 नौकाएं टू सीटर तो 10 फोर सीटर हैं। नाव के साथ ही दो दर्जन से अधिक लाइफ जैकेट भी निगम को उपलब्ध कराए गए हैं, जिसे पहन कर ही नौकायन करना होगा। नौकायन समूचे रामगढ़ ताल में नहीं किया जा सकेगा। नौकायन क्षेत्र का सीमांकन भी कर लिया गया है। पर्यटन निगम नौकायन के लिए न्यूनतम शुक्ल भी लेगा, जिसका निर्धारण दो दिन में कर लिया जाएगा।

योग और संगीत का शुरू होगा सिलसिला

पर्यटन विभाग ने जेटी के प्रति लोगों का आकर्षण बढ़ाने के लिए सुबह योग शिविर और शाम को संगीत संध्या आयोजित करने की योजना बनाई है। इसे लेकर भी तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। सबकुछ अपेक्षानुरूप रहा तो पखवारे भर में शिविर और संगीत संध्या का सिलसिला शुरू हो जाएगा। शिविर प्रतिदिन सुबह आयोजित होगा जबकि संगीत संध्या सप्ताह में दो दिन यानी शनिवार व रविवार को आयोजित होगी। इसके लिए योग प्रशिक्षक और संगीत संस्थाओं से करार की प्रक्रिया अंतिम चरण में है।

इस संबंध में क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी रवींद्र कुमार मिश्रा का कहना है कि रामगढ़ ताल के जेटी से नौकायन शुरू करने की तैयारी पूरी हो चुकी है। पर्यटन निगम को संसाधनों के साथ इसकी जिम्मेदारी सौंप दी गई है। सुरक्षित और संरक्षित नौकायन के मानक भी तय कर लिए गए हैं। सबकुछ अपेक्षानुरूप रहा तो दो से तीन दिन में लोग जेटी से नौकायन का लुत्फ उठा सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बटुक भैरव देवालय में भादों का मेला 23 सितम्बर को

 अभिषेक के बाद होगा दर्शन का सिलसिला, नए