तांत्रिक को शौंप दी अपनी बेटी को, तांत्रिक ने किया ऐसा कारनामा, जिसे देखकर माता-पिता के होश उड़ गये

- in अपराध, ज़रा-हटके

यूपी के प्रतापगढ़ में गैंगरेप का मामला सामने आया है। यहां अंधविश्वास के चलते एक परिवार ने 15 साल की बेटी को ढोंगी तांत्रिक के हवाले कर दिया।

तांत्रिक ने बहलाफुसला कर पहले लड़की के साथ

प्यार का स्वांग रचा। बाद में दोस्तों के साथ मिलकर गैगरेप किया। यह कारनामा महीने भर तक चलता रहा। हकीकत खुलने पर सभी के होश उड़ गए। तांत्रिक ने डेढ़ महीने से 15 साल की किशोरी को अपने ही घर के एक कमरे में कैद कर रखा था। हर दिन वह अपने दोस्तों के साथ लड़की के साथ गन्दा काम करता था। विरोध पर लड़की को पीटा जाता और यातनाएं दी जाती।

आश्चर्य की बात यह रही की परिजनों ने बेटी के अपहरण की रिपोर्ट थाने में दर्ज कराई थी लेकिन कभी तांत्रिक के ऊपर शक नहीं किया। नीलकंठ राजापुर निवासी राम किशोर भट्ठे पर रहकर मजदूरी करता है। घर पर उसकी पत्नी रागनी बच्चों के साथ रहती है। कुछ दिनों से उसकी 15 वर्षीय बेटी सोनम ( बदला हुआ नाम) की तबीयत खराब चल रही थी। सोनम को झाड़फूंक के लिया संग्रामगढ़ थाना क्षेत्र के लहैया गांव में ओझा के यहां ले जाया गया।

सोनम को देखकर ओझा की नियत खराब हो गई थी लेकिन इस बात से बेफिक्र परिजन उसे बार-बार ओझा के पर झाड़फूंक के लिये ले जाते रहे। ओझा अकेले में तंत्र-मंत्र की बात कह कर किशोरी के परिजनों को बाहर भेज देता था। धीरे-धीरे उसने सोनम के भोलेपन का फायदा उठाया और अपने प्रेम जाल में फंसा कर उसके साथ शारिरिक संबंध बना लिया।

लगभग डेढ़ महीने पहले सोनम घर से गायब हो गई। तो परिजनों ने शक के आधार पर गांव के ही एक व्यक्ति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। जांच में पुलिस सोनम की गांव की ही सहेली तक पहुंची और उसके मोबाइल से उस ओझा तक। प्रतापगढ़ के पुलिस कप्तान सगुन गौतम ने बताया की जांच पड़ताल में जब ओझा पर शिकंजा कसा गया तो मामला खुला। ओझा के घर के पीछे के हिस्से में एक कमरे के अंदर लड़की कैद मिली, लेकिन पुलिस को चकमा देकर ओझा भाग निकला। पुलिस ने लड़की को मेडिकल के लिए अस्पताल भेजा है। ओझा के ठिकानों पर दबिश दी रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

हर दिन बॉयफ्रेंड को भेजती थी रूममेट्स की NUDE तस्वीरें, फिर एक दिन..

दुनियाभर में अपराध के मामले बढ़ते जा रहे