हमारा देश पड़ोसियों से मजबूत रिश्ते चाहता है: चीन

कोलकाता में चीनी महावाणिज्य दूत मा झानवू ने भारत को ‘‘उभरती हुई अर्थव्यवस्था’’ बताते हुए बुधवार को कहा कि उनका देश पड़ोसियों के साथ मजबूत रिश्ते बरकरार रखना चाहता है. बेल्ट और रोड परियोजना (बीआरआई) के चीन द्वारा दुनिया या अपने पड़ोसियों को जीतने की योजना नहीं बनाए जाने पर जोर देते हुए झानवू ने कहा कि यह परियोजना परामर्श और चर्चा के जरिये ‘‘साझा फायदों और विकास’’ के बारे में है. कोलकाता में चीनी महावाणिज्य दूत ने कहा, ‘‘भारत और रूस अहम शक्तियां और चीन के पड़ोसी हैं. हमारा देश पड़ोसियों के साथ मजबूत रिश्ते चाहता है.’’ भारतीय मुद्रा के हालिया अवमूल्यन के बारे में झानवू ने कहा, ‘‘पिछले कुछ दिनों में रूपये का जरूर अवमूल्यन हुआ है, लेकिन भारतीय अर्थव्यवस्था की प्रगति को पलटा नहीं जा सकता.’’ 

हमें एक दूसरे के साथ सहयोग की जरूरत

अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप की सुरक्षा में तैनात हुआ पहला सिख अंशदीप सिंह भाटिया

उन्होंने कहा कि दुनिया चीन, भारत और अफ्रीका तथा लैटिन अमेरिका में दूसरे विकासशील देशों के उदय को देख रही है. झानवू ने हालांकि अमेरिका में व्यापार संरक्षण नीति को ‘‘नकारात्मक गतिविधि’’ करार दिया. उन्होंने यहां चीन और पूर्वी भारत के बीच संपर्क और व्यापारिक रिश्तों पर एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘समावेशी विकास के लिये हमें एक दूसरे के साथ सहयोग की जरूरत है. हर भारतीय राज्य यह समझ चुका है कि उसे अपने लोगों के लिये नौकरियां पैदा करने और आगे बढ़ने की जरूरत है.’’ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चीन का कर्ज बढ़कर 2,580 अरब डॉलर हुआ

चीन का बढ़ता कर्ज अब 2,580 अरब डॉलर